(पंजीकरण) यूपी कौशल सतरंग योजना 2021: ऑनलाइन आवेदन | एप्लीकेशन फॉर्म

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा कौशल सतरंग योजना का संचालन किया जा रहा है। इस योजना के अंतर्गत सभी बेरोजगार युवाओं को अब रोजगार प्राप्त होगा। Kaushal Satrang Yojana की शुरुआत वर्ष 2020 में 12 मार्च को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा की गयी थी। यह योजना उन सभी लोगों के लिए फायदेमंद हैं जो बेरोजगार और कम पढ़े लिखे हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि इस योजना के माध्यम से सभी युवाओं को उनके कौशल विकास के लिए प्रशिक्षण दिया जाएगा। जिस से उन्हें अपने कौशल के आधार पर आगे जाकर रोजगार के अवसर प्राप्त हों। कौशल सतरंग योजना के तहत उत्तर प्रदेश सरकार ने सभी योजना में पंजीकृत युवाओं और बेरोजगारों को रोजगार के अवसर भी प्रदान करने का निर्णय लिया है। इस से राज्य में फैली बेरोजगारी भी कम की जा सकेगी। इसमें युवक और युवतियां दोनों ही पंजीकरण करा सकते हैं।

यूपी कौशल सतरंग योजना

यूपी कौशल सतरंग योजना 2021 क्या है ?

Uttar Pradesh Kaushal Satrang yojana 2021 के अंतर्गत प्रदेश के सभी युवाओं और बेरोजगारों को रोजगार के अवसर प्रदान कराये जाएंगे। इस स्कीम के माध्यम से सरकार सभी जरूरतमंद युवाओं को अपने कौशल के विकास हेतु विभिन्न कार्यों के प्रशिक्षण देगी। इस योजना के तहत सभी युवक और युवतियां इस स्कीम में भाग ले सकेंगे और अपने कौशल को और निखार सकेंगे। आपको बता दें की यूपी कौशल सतरंग योजना के तहत प्रदेश के विभिन्न जिलों में मेगा जॉब फेयर का आयोजन होगा। ये आयोजन जिलों के सेवायोजन कार्यालयों में आयोजित होगा। इस योजना के अंतर्गत युवाओं के कौशल विकास (Skill Development Scheme) पर ध्यान दिया जाएगा। ताकि उन्हें भविष्य में रोजगार प्राप्त करने में आसानी हो। इस योजना में 7 घटक(योजनाएं ) होंगे जो युवाओं को भविष्य के लिए तैयार करेंगे व रोजगार के अवसर देंगे। सरकार ने इस योजना के सफल क्रियान्वयन के लिए 1200 करोड़ रूपए का बजट रखा है। इस योजना का लाभ प्रदेश के हर वर्ग के युवक युवतियां उठा सकते हैं।

यूपी मिशन रोजगार 2021 ऑनलाइन आवेदन

Uttar Pradesh Kaushal Satrang yojana highlights

योजना का नाम कौशल सतरंग योजना
राज्य का नाम उत्तर प्रदेश
शुरुआत की गयी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा
लांच हुई 12 मार्च 2020
उद्देश्य युवाओं को प्रशिक्षण देना और रोजगार के अवसर प्रदान करना
लाभ कौशल विकास और रोजगार के अवसर मिलना
लाभार्थी प्रदेश के सभी बेरोजगार
योजना की श्रेणी राज्य सरकार योजना
आवेदन मोड ऑनलाइन
आधिकारिक वेबसाइट अभी जारी नहीं

यूपी कौशल सतरंग योजना के उद्देश्य क्या है ?

यूपी कौशल सतरंग योजना का उद्देश्य प्रदेश में युवाओं के बीच फैली बेरोजगारी को दूर करने के लिए उनका कौशल विकास करना और राज्य की अर्थव्यवस्था को मजबूत करना है। जैसे की हम जानते हैं कि राज्य में आज भी बहुत से ऐसे युवक और युवतियां हैं जो शिक्षित होने के बाद आज भी नौकरी की तलाश में हैं। और अभी तक रोजगार का कोई साधन नहीं मिला है। ऐसे में जो कम पढ़े लिखे हैं उनके लिए चुनौतियां और गंभीर हैं। ऐसी स्थिति में ये योजना काफी प्रभावी होगी। इसके माध्यम से सभी जरूरतमंद युवक और युवतियों को विशेष प्रशिक्षण दिया जाएगा और साथ ही उन्हें रोजगार के अवसर भी प्रदान किये जाएंगे। जानकारी के लिए बता दें की इस योजना में युवाओं को प्रशिक्षण कॉलेज में प्रशिक्षण देने का प्रावधान है जहाँ उन्हें व्यावसायिक व कौशल प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा। अपना स्वयं का भी उद्यम शुरू करना चाहेंगे उन्हें भी मार्गदर्शन और मदद दी जाएगी।

कौशल सतरंग के सात घटक / योजनाएं

  1. मुख्यमंत्री युवा उद्यममिता विकास अभियान (सीएम युवा हब योजना) : इसके अंतर्गत विभिन्न विभागों के द्वारा चलाई जा रही स्वरोजगार योजनाओं का एकीकरण होगा। जिसके माध्यम से सभी युवाओं को स्वरोजगार के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। इस में 1200 करोड़ रूपए का बजट तय किया गया है और लगभग 30000 स्टार्टअप इकाइयां स्थापित की जाएंगी जिनके माध्यम से बेरोजगारों को उनके कौशल के आधार पर रोजगार प्रदान किया जाएगा।
  2. मुख्यमंत्री अप्रेंटिसशिप प्रमोशन योजना : (National Apprenticeship Promotion Scheme /NAP) यदि कोई व्यक्ति इस योजना के अंतर्गत किसी भी उद्योग में ट्रेनिंग (अप्रेंटिसशिप) करता है तो उसे रु 2500 /= का मानदेय सरकार द्वारा प्राप्त होगा। इस मानदेय राशि में 1500 रूपए केंद्र सरकार द्वारा दी जाएगी और बाकी की 1000 रुपयों की राशि राज्य सरकार द्वारा आवंटित की जाएगी।
  3. जिला कौशल विकास योजना : इस योजना के अंतर्गत जिलाधिकारी (डीएम ) अध्यक्षता में एक समिति गठित होगी जो राज्य के युवाओं को इस योजना से जोड़ेगी। इसके अलावा सभी बेरोजगार युवाओं को इस योजना के तहत पंजीकृत भी करेगी।
  4. रिकग्निशन ऑफ प्रायर लर्निंग : इस योजना के माध्यम से उन सभी कारीगरों / युवाओं जो पारम्परिक स्वरोजगार से जुड़े हैं उनकी स्किल (हुनर ) की मैपिंग की जाएगी और उन्हें इसका प्रमाण पत्र भी प्रदान किया जाएगा। जिस से उन्हें आगे उनके हुनर की पहचान हो सके।
  5. तहसील स्तर पर कौशल पखवाड़ा योजना : इसके तहत तहसील स्तर पर कौशल पखवाड़ा आयोजित किया जाएगा जिसमे एलईडी वैन के माध्यम से सभी युवाओं को कौशल विकास योजनाओं के बारे में विस्तृत जानकारी दी जाएगी।
  6. कौशल विकास ट्रेनिंग : IIT कानपुर और IIM लखनऊ के साथ करार हुआ है जिसमे बेसिक शिक्षा विभाग, स्वास्थ्य विभाग और पशुपालन विभाग से करार के तहत आरोग्य मित्रों व गौ पालकों को प्रशिक्षित करेंगे और बच्चों को स्कूल में दाखिला दिलाने के साथ ही कौशल विकास की ट्रेनिंग भी दी जाएगी ।
  7. प्लेसमेंट एजेंसी : सतरंग योजना के तहत ट्रेनिंग पाने वाले प्रशिक्षुओं / युवाओं को रोजगार के अवसर प्रदान करने हेतु 3 प्लेसमेंट एजेंसियों के साथ भी करार हुआ है।

कौशल सतरंग योजना से लाभ

  • कौशल सतरंग योजना के तहत सभी बेरोजगार युवाओं को कौशल प्रशिक्षण दिया जाएगा और उन्हें और बेहतर बनाय जाएगा जिस से उन्हें नौकरी मिलने में आसानी हो जाएगी।
  • इस योजना के माध्यम से बेरोजगारी में कमी आएगी। इसके साथ ही राज्य की अर्थव्यवस्था में भी काफी सुधार होगा।
  • ये योजना प्रदेश के सभी वर्ग के युवक और युवतियों के लिए है। इसमें भाग लेने के लिए सभी वर्ग के बेरोजगार युवा आवेदन कर सकते हैं।
  • कौशल सतरंग योजना के अंतर्गत अपने ही जिले शहर या गाँव में रोजगार प्राप्त कर सकते हैं।
  • रोजगार मेले के माध्यम से ज्यादा से ज्यादा लोगों को इस योजना के बारे में जानकारी मिलेगी और अधिक लोग इसके तहत आवेदन और पंजीकरण कर सकेंगे। और आसानी से इस योजना का लाभ ले सकेंगे।
  • उत्तर प्रदेश की कौशल सतरंग योजना के अंतर्गत 7 अन्य योजनाएं आती हैं। जिनके तहत सभी युवाओं को प्रशिक्षण के साथ साथ रोजगार देने तक की व्यवस्था होगी।
  • जो भी लाभार्थी इस योजना के माध्यम से प्रशिक्षण लेगा उसे अपने प्रशिक्षण संस्थान की तरफ से जॉब प्लेसमेंट दिलाया जाएगा ।
  • जो व्यक्ति इस योजना में प्रशिक्षण के बाद अपना स्वयं का उद्यम लगाना चाहेगा उसे प्रशिक्षण संस्थान के द्वारा मार्गदर्शन दिया जाएगा। साथ ही यथासम्भव मदद भी की जाएगी।
  • अब बेरोजगारों को भटकना नहीं होगा बल्कि इस योजना में पंजीकृत होकर अपना हुनर तराशना होगा और प्रशिक्षण के बाद उसे नौकरी के लिए भी संस्थान द्वारा अवसर प्रदान किये जाएंगे।
UP Kaushal Satrang yojana documents

इस योजना के तहत जरुरी दस्तावेज़ों की सूची हम आगे दे रहे हैं।

  • आवेदक का आधार कार्ड संख्या
  • आवेदनकर्ता का मूल निवास प्रमाण पत्र
  • मोबाइल नंबर
  • बैंक खाता नंबर और पासबुक
  • लाभार्थी की 10 और 12वीं की मार्कशीट
  • आवेदक की पासपोर्ट साइज की 2 फोटोग्राफ

कौशल सतरंग योजना की पात्रता

  • इस योजना में आवेदन के लिए ये आवश्यक है की आवेदक उत्तर प्रदेश का मूल निवासी होना चाहिए।
  • आवेदन करने वाला व्यक्ति बेरोजगार की श्रेणी में आना चाहिए। अन्यथा वो इस योजना का लाभ नहीं ले सकता।
  • इस योजना के अंतर्गत आयु 35 – 40 से अधिक नहीं होनी चाहिए।
  • आवेदक के पास बैंक खाता होना चाहिए।

यूपी कौशल सतरंग योजना 2021 ऑनलाइन आवेदन कैसे करें ?

इस योजना के अंतर्गत आवेदन करने हेतु अभी राज्य सरकार द्वारा इस योजना के लिए कोई ऑनलाइन पोर्टल जारी नहीं किया है। इस योजना की घोषणा के बाद से अभी तक सरकार द्वारा आवेदन की मांग की शुरुआत नहीं की गयी है। जैसे ही इस योजना की तैयारी पूरी हो जाएगी और आवेदन प्रक्रिया की शुरुआत की जाएगी आपको इस लेख के माध्यम से सूचित कर दिया जाएगा। इसके लिए आप हमारे वेबसाइट पर चेक कर सकते हैं।

कौशल सतरंग योजना 2021 से सम्बंधित प्रश्न उत्तर

कौशल सतरंग योजना क्या है ?

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा ये योजना प्रदेश के सभी बेरोजगार युवाओं को कौशल प्रशिक्षण के साथ साथ रोजगार के अवसर प्रदान करने के लिए शुरू किया है।

यूपी कौशल सतरंग योजना का लाभ कौन कौन व्यक्ति ले सकते हैं ?

इस योजना का लाभ लेने के लिए किसी भी वर्ग के बेरोजगार युवा आवेदन कर सकते हैं। चाहे वो शिक्षित हो या कम पढ़े लिखे बेरोजगार , सभी इस योजना का लाभ ले सकते हैं।

Uttar Pradesh Kaushal Satrang yojana के लिए कौन से दस्तावेज़ की आवश्यकता होगी।?

आवेदक का आधार कार्ड संख्या ,आवेदनकर्ता का मूल निवास प्रमाण पत्र ,मोबाइल नंबर ,
बैंक खाता नंबर और पासबुक,लाभार्थी की 10 और 12वीं की मार्कशीट ,आवेदक की पासपोर्ट साइज की 2 फोटोग्राफ

कौशल सतरंग योजना का उद्देश्य क्या है ?

यूपी कौशल सतरंग योजना का उद्देश्य प्रदेश में युवाओं के बीच फैली बेरोजगारी को दूर करने के लिए उनका कौशल विकास करना और राज्य की अर्थव्यवस्था को मजबूत करना है।

यूपी कौशल सतरंग योजना के लिए निर्धारित पात्रता कौन सी है ?

इस योजना में आवेदन के लिए ये आवश्यक है की आवेदक उत्तर प्रदेश का मूल निवासी होना चाहिए।
आवेदन करने वाला व्यक्ति बेरोजगार की श्रेणी में आना चाहिए। अन्यथा वो इस योजना का लाभ नहीं ले सकता।
इस योजना के अंतर्गत आयु 35 – 40 से अधिक नहीं होनी चाहिए। आवेदक के पास बैंक खाता होना चाहिए।

हेल्पलाइन नंबर

जैसा कि इस लेख में हमने आपसे यूपी कौशल सतरंग योजना 2021 से संबंधित समस्त जानकारी साझा की है, यदि आपको इन जानकारियों के अलावा कोई अन्य जानकारी चाहिए तो आप नीचे दिए गए कमेंट सेक्शन में जाकर मैसेज करके पूछ सकते है आशा करते है आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी से सहायता मिलेगी।

Leave a Comment