पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना । PM Cares For Children Scheme

दोस्तों आज हम बात करने जा रहें हैं, पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना की जिसे आरम्भ करने की घोषणा हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा 29 मई 2021 को की गई है। PM Cares यानि (Pradhanmantri Citizen Assistance And Relief In Emergency Situation) For Children Scheme इस योजना के अंतर्गत देश मे कोरोना महामारी के कारण अपने अभिभावकों को खो चुके अनाथ बच्चों की देख भाल, भरण पोषण व उनकी शिक्षा की पूरी जिम्मेदारी सरकार द्वारा उठाई जाएगी, जिससे वह अनाथ बच्चे जिनकी देख-रेख करने वाले उनके अभिभावकों के बाद उनका कोई नहीं है, उन बच्चों के जीवन पर किसी तरह की संकट उत्पन्न नहीं होगा। पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना में देश के किन बच्चों को योजना का लाभ मिल सकेगा और उन्हें सरकार द्वारा क्या-क्या लाभ प्रदान किए जाएँगे, इससे जुडी सभी जानकारी आप हमारे लेख के माध्यम से प्राप्त कर सकेंगे।

पीएम-केयर्स-फॉर-चिल्ड्रन-योजना

प्रधानमंत्री केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना 2021

दोस्तों जैसा की आप सब जानते हैं, की देश में प्रतिदिन बढ़ते कोरोना संक्रमण की चपेट में आने से बहुत से लोग अपनी जान गवा चुके हैं, जिसके चलते देश के बहुत से बच्चे जिनके अभिभावकों की मृत्यु के पश्चात अब उनकी देखरेख करने वाला कोई नहीं है, ऐसे सभी बच्चों की देख भाल व उनका शिक्षा का पूरा जिम्मा उठाने के लिए सरकार द्वारा पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना का आरम्भ किया गया है, इस योजना के माध्यम से देश में कोविड-19 से अनाथ बच्चों के भविष्य को सुरक्षित करने के लिए सरकार द्वारा इन्हे निःशुल्क शिक्षा, भरण-पोषण की पूरी व्यवस्था के साथ-साथ 18 वर्ष की आयु पूरी हो जाने के बाद 23 वर्ष तक प्रतिमाह निर्धारित स्टिपेन्ड (मासिक भत्ता) दिया जाएगा और 23 वर्ष की आयु पूरी हो जाने के बाद उन्हें पीएम केयर्स फण्ड से 10 लाख रूपये की धनराशि प्रदान की जाएगी, जिससे वह अपनी उच्च शिक्षा या अपने व्यवसाय की शुरुआत के लिए इस धनराशि को इस्तेमाल कर सकेंगे। इस वर्ष महिला एवं बल कल्याण विभाग द्वारा जारी रिपोर्ट में यह बताया गया की कोरोना महामारी की दूसरी लहर के कारण अभी तक देशभर में 577 से भी अधिक बच्चे अनाथ हुए हैं।

update :

केंद्र सरकार के महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने सभी राज्यों और केंद्र शाषित प्रदेशों को उन सभी बच्चों का विवरण देने को कहा है जिन्होंने covid-19 के कारण अपने माता पिता को खो दिया है। इन सभी बच्चों की पहचान जिलाधिकारियों की मदद से की जा सकेगी और उन्हें ‘पीएम-केयर्स फॉर चिल्ड्रेन” योजना के तहत सहायता प्रदान की जाएगी। मंत्रालय ने त्वरित सहायता देने के लिए एक पोर्टल भी लांच किया है जहाँ इन बच्चों की सभी जानकारी दी जा सकेगी। मंत्रालय ने जिलाधिकारियों को इन बच्चो की पहचान के लिए एक अभियान चलाने के लिए कहा है जहाँ पुलिस, जिला बाल संरक्षण इकाई (डीसीपीयू), चाइल्डलाइन और नागरिक समाज संगठनों की सहायता ली जा सकेगी।

पीएम-केयर्स-फॉर-चिल्ड्रन

PM Cares For Children Scheme Highlights

योजना का नाम पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना
घोषणा की गई प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा
साल 2021
योजना के लाभार्थी कोरोना महमारी के कारण हुए अनाथ बच्चे
उद्देश्य देश के अनाथ बच्चों के भविष्य को सुरक्षित रखना
योजना श्रेणी केंद्र सरकारी योजना

पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना का उद्देश्य

सरकार द्वारा पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना को आरम्भ करने का मुख्य लक्ष्य योजना के माध्यम से देश में बढ़ते कोरोना महामारी से प्रभावित लोगों के अनाथ बच्चों को सुरक्षा प्रदान करना है, जिससे वह सभी बच्चे जिनकी देख रेख करने वाला कोई नहीं है या जिनके परिवार में अभिभावकों (माता-पिता दोनों) की मृत्यु के बाद वह अपने बूढ़े दादा-दादी या किसी अन्य परिवारजन के साथ रह रहे हैं, उन्हें सरकार योजना के तहत उनकी शिक्षा व उनके पालन-पोषण की पूरी जिम्मेदारी व खर्चा पीएम केयर्स फण्ड के माध्यम से प्रदान करवाएगी, जिससे सरकार द्वारा दी जाने वाली आर्थिक सहायता से बच्चों का जीवन बेहतर बनाया जा सकेगा और वह भी अन्य बच्चों की तरह ही पढ़-लिखकर भविष्य में आगे बढ़ सकेंगे।

पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना की विशेषताएँ

निशुल्क शिक्षा के लिए दी जाने वाली सहायता

PM Cares For Children Scheme के तहत कोरोना के कारण अनाथ हुए 11 से 18 वर्ष तक की आयु के बच्चों को सरकार द्वारा उनकी शिक्षा पूरी करने के लिए किसी भी केन्द्रय रेजिडेंशियल स्कूल जैसे (सैनिक स्कूल, नवोदय स्कूलों) में दाखिला दिलवाया जाएगा और यदि आवेदक बालक/बालिका अपने दादा-दादी या परिवार के किसी अन्य सदस्य के साथ रहना चाहता है, तो उन्हें उनके नजदीकी केंद्र विद्यालयों या किसी अन्य प्राइवेट स्कूल में दाखिला दिलवाया जाएगा, जिसके खर्चे का पूरे भुगतान सरकार पीएम केयर फण्ड से ही प्रदान करेगी।

योजना में दिया जाने वाला स्टाइपेंड व स्वास्थ्य बीमा

आवेदक बालक व बालिका के 18 वर्ष की आयु पूरी होने के बाद सरकार द्वारा उन्हें 5 वर्षों यानि 23 वर्ष की आयु होने तक योजना में निर्धारित किया गया स्टाइपेंड हर महीने प्रदान किया जाएगा, जिससे वह अपनी आर्थिक आवश्यकतों की पूर्ति कर सकेंगे साथ ही योजना में आयुष्मान भारत के अंतर्गत इन बच्चों को 5 लाख का स्वास्थ्य बीमा 18 वर्ष तक की आयु के लिए प्रदान करवाया जाएगा, जिसके प्रीमियम का पूरा भुगतान सरकार द्वारा पीएम केयर्स फण्ड से ही प्रदान किया जाएगा।

23 कर्ष की आयु होने पर मिलने वाला फण्ड

योजना में बालक/बालिकाओं को 23 वर्ष तक दिए जाने वाले स्टिपेन्ड के बाद 23 वर्ष पूरे हो जाने पर 10 लाख तक का फण्ड एकमुश्त प्रदान किया जाएगा, जिससे वह बालक चाहे अपनी उच्च शिक्षा पूरी करने के लिए या फिर अपने किसी व्यवसाय की शुरुआत करने के लिए उपयोग कर सकता है, साथ ही यदि आवेदक बालक-बालिका देश से बाहर अपनी शिक्षा पूरी करने के लिए जाना चाहते हैं या उन्हें 10 लाख रूपये के अतिरिक्त पढाई के लिए और लोन चाहिए, तो वह इसके लिए भी सरकार से आवेदन कर सकेंगे, जिसके लिए उन्हें सरकार द्वारा लोन प्रदान किया जाएगा, जिसमे आवेदक द्वारा लिए गए ऋण के प्रीमियम का भुगतान सरकार द्वारा किया जाएगा, परन्तु आवेदक बालक/बालिका को नौकरी लग जाने या अपना व्यवसाय शुरू कर लेने के बाद लोन का पूरा भुगतान खुद ही करना होगा।

प्रधानमंत्री केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना के लाभ

योजना में दिए जाने वाले लाभ की जानकारी आवेदक यहाँ से प्राप्त कर सकेंगे।

  • इस योजना का लाभ देश के उन सभी बच्चों को मिल सकेगा जो कोरोना के कारण अपने अभिभावकों को खो चुके हैं।
  • योजना के माध्यम से बच्चों की शिक्षा में लगने वाला पूरा खर्चा जैसे बच्चों की किताब, कॉपी, यूनिफार्म, उनकी स्कूल फीस आदि के खर्चे का भुगतान सरकार द्वारा पूरा किया जाएगा।
  • सभी अनाथ बच्चे निःशुल्क शिक्षा प्राप्त कर आत्मनिर्भर हो सकेंगे।
  • योजना में ESIC (कर्मचारी राज्य बीमा निगम) से पंजीकृत वह नागरिक जिनकी मृत्यु कोविड-19 के कारण हुई है उनके आश्रितों को पेंशन कवरेज प्रदान किया जाएगा।
  • ऐसे सभी व्यक्तियों के आश्रित परिवार को मौजूदा नियमों के अनुसार, उन्हें प्रतिदिन मिलने वाले वेतन का 90% आय के बराबर पेंशन का लाभ दिया जाएगा।
  • योजना के अंतर्गत बच्चों के स्वास्थ्य को ध्यान रखते हुए सरकार द्वारा उनका पाँच लाख रूपये तक का स्वास्थ्य बीमा भी करवाया जाएगा।
  • प्रधानमंत्री केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना के अंतर्गत बच्चों पर लगने वाला सारा खर्च पीएम केयर्स फण्ड के माध्यम से प्रदान किया जाएगा।
  • PM Cares For Children Scheme के तहत देश के अनाथ बच्चों के भविष्य को बेहतर बनाया जा सकेगा।

पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना आवेदन प्रक्रिया

सरकार द्वारा अभी केवल प्रधानमंत्री केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना को आरम्भ करने की घोषणा की गई है, अभी योजना में आवेदन की प्रक्रिया जारी नहीं की गई है। देश के जो भी नागरिक जो योजना में आवेदन कर योजना का लाभ किसी अनाथ बच्चे को प्रदान करवाना चाहते हैं, उन्हें अभी थोड़ा इंतज़ार करना होगा, इसके लिए सरकार द्वारा जैसे ही योजना को आरम्भ किया जाता है और इसकी आवेदन प्रक्रिया जारी होती है, उसकी जानकारी हम आपको अपने लेख के माध्यम से प्रदान करवा देंगे, इसक लिए आप हमारी साइट से जुड़े रह सकते हैं।

प्रधानमंत्री केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना से जुड़े प्रश्न/उत्तर

पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना का लाभ कीन्हे प्राप्त हो सकेगा ?

पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना का लाभ राज्य के उन सभी बच्चों को प्रदान किया जाएगा जिनके माता-पिता की मृत्यु कोरोना के कारण हुई हो।

PM Cares For Children Scheme को आरम्भ करने की घोषणा सरकार द्वारा कब की गई ?

PM Cares For Children Scheme को आरम्भ करने की घोषणा प्रधानमंत्री जी द्वारा 29 मई 2021 को की गई थी।

योजना में आवेदक बच्चों को सरकार द्वारा क्या लाभ प्रदान किया जाएगा ?

योजना में आवेदक बच्चों को 18 वर्ष तक निशुल्क शिक्षा प्रदान करवाएगी और 18 के बाद पाँच वर्ष तक उन्हें हर महीने स्टाइपेंड भी दिया जाएगा।

उच्च शिक्षा के लिए सरकार द्वारा आवेदक बच्चों को कितनी सहायता राशि दी जाएगी ?

सरकार द्वारा 23 वर्ष की आयु पूरी हो जाने के बाद बच्चों को 10 लाख रूपये का फण्ड दिया जाएगा, जिसका उपयोग वह अपनी उच्च शिक्षा पूरी करने के लिए कर सकेंगे।

योजना में दिया जाने वाले लाभ का पूरा खर्च कहाँ से दिया जाएगा ?

योजना में बच्चों का पूरा खर्चा सरकार द्वारा पीएम केयर्स फण्ड से दिया जाएगा।

योजना में देश के अन्य बच्चे जिनके अभिभावकों की मृत्यु कोरोना के कारण नहीं हुई क्या उन्हें भी शामिल किया जाएगा ?

जी नहीं, यह लाभ केवल कोरोना से मरने वाले अभिभावकों के बच्चों या परिवार वालों को ही प्रदान किया जाएगा।

Leave a Comment