मुख्य अतिथि के लिए स्वागत भाषण – Welcome Speech for Chief Guest in Hindi

किसी भी सभा, मीटिंग, प्रोग्राम या फिर कोई सेलब्रेशन इवेंट में शामिल होने वाले मुख्य अतिथि के आने पर एक स्वागत भाषण की जरुरत होती है। इस भाषण से वक्ता प्रोग्राम में आये मुख्य अतिथि/ अतिथियों का स्वागत-सत्कार करते है। यह भाषण कार्यक्रम में मौजूद लोगों के साथ उक्त व्यक्ति के लिए बेहद जरुरी हो जाता है। चूँकि इसके माध्यम से सभी लोगों को मुख्य अतिथि के विषय में जानकारी मिलती है और मेहमान को भी कार्यक्रम दिए जाने वाले महत्त्व का बोध होता है। इस लेख के माध्यम से आपको कुछ स्वागत भाषणों के बारे में बताया गया है जोकि पुरस्कार कार्यक्रम, वार्षिक दिवस, स्वतंत्रता दिवस, कवि सम्मेलन, गणतंत्र दिवस इत्यादि अन्य भी कार्यक्रमों में दिए जा सकते है।

अपने स्वागत भाषण की शुरुआत आपको उस स्थान के विषय में कुछ जानकारी देकर करना है जहाँ पर कार्यक्रम है। इससे आये हुए अतिथियों को उस स्थान की जानकारी मिलेगी। साथ ही कुछ ऐसा भी कहना है जिससे कार्यक्रम में आये लोगों और अतिथियों को यह जानकारी हो जाये कि अतिथिगण के आ जाने से यहाँ पर ख़ुशी एवं जोश का माहौल पैदा हुआ है।

स्वागत भाषण क्या होता है?

स्वागत भाषण एक ऐसा सम्बोधन है जो किसी भी प्रोग्राम, मीटिंग, सभा एवं महोत्सव के शुरू में दिया जाता है। यह कार्यक्रम में उपस्थित दर्शकों को सम्बोधित और एक खास सन्देश पहुँचाने का काम करता है। यह किसी खास मौके के लिए सही रहता है। आसान शब्दों में कहे तो किसी खास मौके अथवा प्रोग्राम की शुरुआत में “स्वागत भाषण” देना होता है। यह किसी अतिथि/ अतिथियों का स्वागत करने के लिए दिया जाने वाला भाषण है।

स्वागत भाषण की क्या जरुरत है?

सबसे जरुरी बात यह है कि कार्यक्रम में उपस्थित सभी लोगों को शुरू से लेकर अंत तक प्रसन्नता और जोश का अनुभव होना चाहिए। कार्यक्रम और आयोजक का यह परम दायित्व है कि वे कार्यक्रम के सभी भागीदारों को संतुष्ट करे और उन्हें अच्छा मनोरंजन भी मिले। एक कार्यक्रम के परिदृश्य की कल्पना करें कि आपको भाषण देने के लिए बुलाया गया है और आप कार्यक्रम में समय पर पहुँचे भी है। इसके बाद वक्ता हो कुछ कार्यक्रम सम्बन्धी बिन्दुओं पर सीढ़ी बात करनी होगी। किंतु ऐसा करने पर आप जान ले कुछ भाग छूट गया है। स्वागत भाषण को परिचय भी कह सकते है, जो किसी भी कार्यक्रम के लिए उपर्युक्त है।

स्वागत भाषण : मुख्य अतिथि के लिए

भाषण को देने सम्बन्धी जानकारी देने से पूर्व आपको यह बता दें कि आपको यह अच्छे से ध्यान रखना होगा कि आपके भाषण में साफ़ एवं आसान शब्दों का इस्तेमाल हो और आपने स्वर भी मधुर हो। आपको अपने वाक्यों में अतिथि के लिए सम्म्मानजनक शब्दों का ही चुनाव करना है जिससे किसी भी व्यक्ति को अपमानित न हों पड़े। साथ ही आपने किसी भी प्रकार की हड़बड़ी भी नहीं करनी है जिससे आपका भाषण एक खानापूर्ति और बोझ जैसा प्रतीत होगा। कार्यक्रम में भाषण देने से पहले अपने भाषण को अच्छी प्रकार से कई बार पढ़ लें इससे आपको भाषण के दौरान किसी भी प्रकार की गलती से बचने में सुविधा होगी।

सुप्रभात, सम्माननीय प्रधानचार्यजी, उपस्थित शिक्षकगण और प्यारे छात्रों, आप सभी को मेरा प्रेमपूर्ण अभिनंदन। मेरा नाम अ ब स है और मैं कक्षा 12 का विद्यार्थी हूँ। सर्वप्रथम मैं इस आप लोगों का ध्यानवाद करता हूँ कि आपने मुझे इस मंच से अपने विचार रखने का मौका दिया।

आज के दिन हम सभी एक छोटे से कार्यक्रम में सम्मिलित होने के लिए विद्यालय में उपास्थित है। इस वृक्षारोपण कार्यक्रम में हम लोगों ने अपने आसपास की बंजर जमीन पर पेड़ लगाने का संकल्प किया है। इस कार्यक्रम में आप सभी को सम्मिलित होने का आमंत्रण दिया है। यहाँ उपस्थित सही जन इस बात से परिचित है कि हमारी प्रकृति में पेड़ पौधों का विशेष महत्त्व है। किन्तु इनकी कमी से हमारे इर्द-गिर्द का वातावरण काफी दूषित हो चुका है।

आजकल हवा एवं पानी दोनों ही प्रदुषण की मार झेल रहे है। इससे इंसान के साथ पशु-पक्षी भी परेशानी का सामना कर रहे है। अब जानकारों के अनुसार इस प्रकार की समस्या से बचने का एक ही सरल उपाय रह जाता है – वृक्षारोपण। आज के दिन यही कार्यक्रम हमारे विद्यालय में आयोजित हो रहा है।

इस कार्यक्रम में हमारे मुख्य अतिथि ……..जी भी आमंत्रित हुए है। इस कार्यक्रम का शुभारंभ भी इन्ही के द्वारा होना है। हम सभी लोग उनका इस बात के लिए धन्यवाद करते है कि उन्होंने अपने बहुमूल्य समय से हम लोगों एवं इस कार्यक्रम के लिए कुछ समय निकाला। आपकी कार्यक्रम में उपस्थिति से माहौल में चार-चाँद लग गए है। कार्यक्रम में आपकी उपस्थिति मात्र से ही जोश एवं ख़ुशी का संचार होने लगा है।

अभी विद्यालय के प्रधानचार्य महोदय ने आपको माला पहनाकर कार्यक्रम में आपका स्वागत किया एवं मंच तक लेकर आये। अगर आपकी प्रसंशा करनी हो तो शब्द मिलना ही कम हो जायेगा। यद्यपि सभी उपस्थित गण जान लें कि आप समाज के वरिष्ठ पत्रकार है और समाज सेवा का भी काम करते है। आपके द्वारा समाज में बहुत से सामाजिक सुधार के काम हुए है। हम सभी ने आपको बहुत अवसरों पर जनता के मध्य उपस्थित होकर अच्छे काम करते देखा है। जिससे हम सभी को आपसे काफी प्रेरणा मिलती है। आप हम सभी लोगों को अच्छे काम करने का हौसला देते है।

आपके प्रयासो से ही हमारे क्षेत्र में स्वछता एवं हरियाली निरंतर बढ़ती जा रही है। मेरी हार्दिक आशा है कि आप इस प्रकार के कार्यों में निरंतर संलग्न रहेंगे। आप से ही प्रेरणा लेकर हमने इस कार्यक्रम का आयोजन किया है। भविष्य में मैं भी आपके साथ इस प्रकार से कार्यों में जुड़ने की इच्छा रखता हूँ। आपने मंच में कार्यक्रम को लेकर जो विचार रखे है उसने यहाँ उपस्थित प्रत्येक व्यक्ति को बहुत ज्यादा प्रभावित करते है। यह हम सभी के भीतर ऊर्जा का संचार करके इस कार्यक्रम को और ज्यादा सफल बनाते है।

इन सभी शब्दों के साथ ही मैं अपने भाषण को विराम देता हूँ और उम्मीद करता हूँ कि आपने मेरा भाषण अच्छा लगा होगा।

धन्यवाद!

यह भी पढ़ें :- BPO क्या होता है? बीपीओ कितने प्रकार के होते हैं एवं इसके लाभ और हानि BPO Full Form in Hindi

विद्यालय के वार्षिक कार्यक्रम में स्वागत भाषण

सभी को मेरा नमस्कार/ प्रणाम/ गुड़ मॉर्निंग/ गुड़ इवनिंग/ शुभ संध्या/ शुभ प्रभात

आदरणीय अतिथि श्री अ ब स, अध्यक्ष अ ब स, प्रधानाध्यापक महोदय अ ब स, सम्मानित शिक्षक गण एवं कार्यक्रम में उपस्थित सभी लोगों का मैं इस वार्षिक विद्यालयी समारोह में हार्दिक स्वागत करता हूँ।

मेरा नाम राजेश सिंह है और मैं इस विद्यालय जनता माध्यमिक कॉलेज की कक्षा 12 का छात्र हूँ और अपनी कक्षा में प्रमुख छात्र के पद पर आसीन हूँ। आज मेरे लिए बहुत ख़ुशी का अवसर है कि मुझको विद्यालय के वार्षिक कार्यक्रम में उपस्थित सभी लोगों के के बीच अपने विचार रखने का अवसर मिल रहा है।

हमारे विद्यालय के वार्षिक कार्यक्रम में उपस्थित होकर यह बात बताते हुए मैं अति प्रसन्न हूँ कि आज के दिन हमारे विद्यालय की स्थापन हुए 25 वर्ष पूर्ण हो चुके है। इसी कारण से आज इस विद्यालय में अध्ययन करने वाले विद्यार्थी, सभी अध्यापक और विद्यालय प्रशासन इस दिन को अति महत्वपूर्ण दिन मानते है।

हमारे विद्यालय से अध्ययन के बाद बहुत से विद्यार्थी डॉक्टर, इंजीनियर एवं सिविल अधिकारी बने है। इसके अतिरिक्त बहुत से छात्र अन्य पदों को प्राप्त किये है। इस बात से विद्यालय के सभी छात्र एवं मैं अपने विद्यालय पर गर्व महसूस करते है। हम सभी बड़े गर्व के साथ अपने विद्यालय ने विषय में लोगों को बताते है।

वर्तमान में हमारे विद्यालय को इस क्षेत्र के सर्वाधिक प्रसिद्ध एवं ख्यातिलब्ध विद्यालय में शामिल किया जाता है। हमारे विद्यालय में छात्रों की पढ़ाई पर भी ध्यान देते है लेकिन साथ में अन्य जरुरी गतिविधियों जैसे खेल और सांस्कृतिक पर भी ध्यान दिया जाता है। इस कारण से यहाँ पर पढने वाले विद्यार्थी का चहुमुखी विकास होता है और वे कला में भी निपुणता पाते है। इस प्रकार से अपना समग्र विकास करने के बाद यहाँ से निकलकर बच्चे समाज में अच्छा स्थान प्राप्त कर पाते है।

इसके अतिरिक्त हमारे शिक्षको का विद्यालय में व्यवहार बहुत प्रसंसनीय है। इसके साथ ही हमारे विद्यालय का सांस्कृतिक एवं अनुशासन का वातावरण छात्रों को एक अलग ही तरह का सुख देता है। इसके साथ ही सभी छात्रों को जीवन में विकास करने की प्रेरणा भी देता है। विद्यालय में शिक्षकों एवं छात्रों के बीच प्रेम-आदर का व्यवहार यहाँ की गुरु शिष्य परंपरा के दर्शन देता है।

आज इस विद्यालय को सफलता की शिखर पर पहुँचाने स्कूल प्रशासन, शिक्षकों एवं छात्रों के साथ यहाँ काम करने वाले सभी व्यक्तियों का समान योगदान है। मेरी यही प्रार्थना है कि यह विद्यालय इसी प्रकार से उन्नति के मार्ग पर बढ़ता जाएगा जैसा पिछले 25 वर्षों में बढ़ा है।

अब मैं विद्यालय के वार्षिक कार्यक्रम के पावन अवसर पर सांस्कृतिक एवं साहित्यिक कार्यक्रम के शुरू होने से पहले मंच पर अतिथि के रूप में उपस्थित श्रीमान अमित सागर का हृदय से स्वागत करता हूँ। जैसा कि यहाँ उपस्थित बहुत से लोगों को जानकारी होगी कि श्रीमान अमित सागर इस शहर के पुलिस आयुक्त है। इनके माध्यम से शहर की आपराधिक गतिविधियों में बहुत अधिक रोकथाम की गयी है। और कानून व्यवस्था को लागू करने पर बहुत जोर दिया जा रहा है।

इनके अतिरिक्त हम सभी यहाँ पर मौजूद दूसरे अतिथि श्रीमान राज कुमार का भी स्वागत करते है, ये हमारे शहर में विधायक के पद पर आसीन है। किन्तु यहाँ पर उपस्थित किसी भी अतिथि महोदय को किसी भी प्रकार के परिचय की जरुरत नहीं है। क्योकि इनके कार्यों से समाज में अच्छी प्रसिद्धि मिली हुई है।

हम सभी को इस बात से अत्यधिक प्रसंशा हुई है कि इस प्रकार की कोटि के अतिथि हमारे विद्यालय के वार्षिक उत्सव में उपस्थित हुए है। अतः इस अवसर पर मैं इस कार्यक्रमके मंच पर सादर आमंत्रित करता हूँ जिससे वे अपने विचारों को हमसे साझा करके विद्यालय के वार्षिक महोत्सव का शुभारम्भ करें।

आप सभी को बहुत-बहुत धन्यवाद।

पुरस्कार कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के लिए स्वागत भाषण

सम्माननीय मुख्य अतिथि महोदय, श्रीमान डीएम, डीजी, डायरेक्टर, श्रीमान प्रधानाध्याक, श्री वीपी, उपाध्यक्ष, मंच के माननीय व्यक्ति, आदरणीय शिक्षक, सभी माता-पिता एवं मेरे प्यारे छात्र मित्रो।

आप सभी को मेरा नमस्कार, मेरे लिए सौभाग्य की बात है कि इस कार्यक्रम में हम सभी विद्यालय के छात्रों की उपलब्धियों पर महोत्सव मनाने एवं पुरस्कार देने के लिए एकत्रिक हुए है। यह खुशी एवं सम्मान का विषय है कि इस प्रफुल्लित शाम में सम्बोधन देने का अवसर मुझे मिला हुआ है।

मेरा नाम राहुल राय है और इस विद्यालय की कक्षा 12 में अध्ययन करता हूँ। मैं अपने को बहुत भाग्यशाली मानता हूँ कि इस सम्मानीय कार्यक्रम में मुझे इस सभी को सम्बोधित करने का अवसर मिल रहा है। आज हमारा विद्यालय अपना 20वां वार्षिक शैक्षणिक पुरस्कार कार्यक्रम आयोजित कर रहा है। इस कार्यक्रम के दौरान विद्यालय में अपने परिश्रम के लिए छात्रों को पुरस्कार दिए जायेंगे। इससे ये सभी विद्यार्थी आपने वाले समय में और भी अधिक आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए प्रेरित होंगे।

इसके साथ ही इस कार्यक्रम से सभी लोगों को यह जानकारी होगी कि हमारा विद्यालय पिछले 20 वर्षों में शिक्षा के क्षेत्र में कितना सफल हुआ है। आज का दिन इस विद्यालय के विद्यार्थियों की बौद्धिक प्रतिभा के प्रदर्शन का गवाह बनेगा। शिक्षा का महत्त्व सिर्फ विद्यालय की कक्षाओं के कमरों तक ही सीमित नहीं रहता है यद्यपि इससे कही अधिक है। हम सभी बहुत सौभाग्यशाली है कि हमको इस प्रकार से शिक्षक, प्रधानाध्याक का सानिध्य मिला हुआ है जो इस बात का महत्त्व अच्छे से जानते है।

इस विद्यालय का भवन एवं अध्यापक दोनों ही मिले हुए दो संसाधन है तो दूसरी ओर यहाँ पढ़ने वाले सभी विद्यार्थी तीसरा संसाधन है। सही मायनो में एक अध्यापक के लिए यह सबसे बड़ी बात है कि वो अपने विद्यार्थी में से किस तरह रचनात्मक, बौद्धिक, खेल की क्षमताओं को बाहर लेकर आता है।

हमारे विद्यालय ने इस बार को लक्ष्य बनाया है कि छात्रों में सिर्फ शैक्षिक योग्यता को ही नहीं तलाशना है। इसके अतिरिक्त नेतृत्व और टीम वर्क, लचीलापन, विश्वासी, खोजी प्रवृति, नया सीखना और सोच-विचार इत्यादि के गुणों को विकसित करना है। मुझे और विद्यालय को यहाँ के कक्षा 9 एवं 10 के छात्रों द्वारा की गयी कठिन श्रम की जानकारी मिलने के बाद अति प्रसन्नता हो रही है। आज के दिन ये सभी लोग इनको लेकर परिणाम की प्रतीक्षा कर रहे है। साथ ही इस मौक पर उन सभी विद्यार्थियों को भी श्रेय देना चाहूंगा जो अपने परिश्रम के द्वारा अपने लक्ष्य को पाने का माद्दा रखते है।

आज के लिए मुझको जो काम दिया गया है वह विद्यार्थियों को इस कार्यक्रम में सभी गणमान्यों का स्वागत करना। इसी कडी में मैं सबसे पहले विद्यालय के प्रधानध्यापक महोदय को आमन्त्रित करना चाहूंगा जोकि इस विद्यालय के लिए एक शक्ति का स्त्रोत है। और यह अपने जीवन में आराम कम, छात्रों की भलाई के काम अधिक पंक्तियों के साथ कार्य करने में संलग्न है। हम सभी आप लोगो का अपने विद्यालय के प्रतिष्ठित कार्यक्रम में स्वागत करते है। साथ ही यहाँ पर उपस्थित हुए माता-पिता जो इस विद्यालय की सभी उच्च संभावनाओं के लिए निरंतर अपना प्रेम एवं योगदान देने रहे है, इनका भी हृदय की गहराइयों से स्वागत है।

अब मैं आज के कार्यक्रम के मुख्य अतिथि का हृदय से स्वागत करता हूँ जिनको किसी भी प्रकार के औपचारिक परिचय की जरुरत नहीं है। आप सभी लोग शहर के बुनियादी ढाँचे, वातावरण के विकास एवं सुधार से सम्बंधित कामों की जानकारी रखते है। हमारे मुख्य अतिथि ने शहर में महिलाओं एवं कन्याओं की सुरक्षा के लिए विशेष प्रयास किये है। इसके अतिरिक्त शहर के निर्धन एवं जरूरतमंद नागरिकों को भी आश्रय दिया है। ये कार्य अन्य किसी ने नहीं हमारे शहर के जिलाधिकारी श्री डीएम महोदय ने किये है।

अब आप सभी लोग तालियों के द्वारा मंच पर श्रीमान डीएम का स्वागत करें और उनको मैं बुलाना चाहता हूँ। अब हम सभी ऐसे महान व्यक्ति से कुछ सुनने का सौभाग्य चाहते है।

धन्यवाद।

संगोष्ठी के लिए स्वागत भाषण

सम्माननीय मुख्य अतिथि, माननीय प्रधानचार्य, अध्यापकगण एवं मेरे सभी प्यारे साथी छात्र!

यहाँ सम्पूर्ण विद्यालय समिति की हितेषी बैठक में उपस्थित सभी को मेरा हार्दिक स्वागत है।

इस प्रकार से हम सभी उन न्यायाधीशों का धन्यवाद देना चाहते है जिन्होंने आत्म-सुधार हेतु इस विद्यालय कार्यशाला के निर्देशन के लिए हमारे प्रोत्साहन को स्वीकृत किया है। विद्यालय छात्रों को नयी जानकारी देने एवं प्रभावशाली तरीके से विद्यालय अभ्यास से संबधित रहने के लिए लगातार संगोष्ठी करता रहा है।

हरेक विषय ने इस विद्यालय के विद्यार्थियों के लिए सर्वाधिक अधिक रूचि का चुनाव किया है। साथ ही इस चुने हुए विषय के लिए गारंटी दी है कि यह विषय सदस्यों को पसंद है।

पिछले साल की संगोष्ठी “दुर्घटना सुधार” विषय पर आधारित थी। इससे विद्यार्थियों को अंग्रेजी भाषा के उत्कृष्ट उच्चारण के लिए बहुत सहायता की थी। इस कार्यक्रम का मूल उद्देश्य विद्यार्थियों को कर्मचारी की तरह एकत्रित करना था और कुशल तरीके से अंग्रेजी भाषा को बोलना, वार्ता करने में इसे संलग्नित करने के महत्व को समझना, तनाव, ठहराव एवं पिच पर जोर देना।

छात्रों के व्यक्तिगत विकास, विद्यार्थियों में जीवन के परिवर्तन के कौशल की समझ को पैदा करने में सहायता करना। यहाँ विशेषरूप से लक्ष्य को चुनने, नेतृत्व को विकसित करना, अच्छा आत्मविश्वास, आकर्षक संचार एवं जीवन परामर्श इत्यादि जरुरी पक्षों के ऊपर कार्य किया जायेगा।

इस संगोष्टी में सम्मिलित होने वाले विद्यार्थी अपने कमजोर स्थानों को पहचानने में प्रवीण होंगे। इसमें सुधार करने के साथ उनकी जीवन -शैली में भी जरुरी परिवर्तन भी किये जायेगें।

इसके अतिरिक्त विद्यार्थियों को अपने सामाजिक कौशल को बेहतर करने का भी प्रशिक्षण दिया जायेगा। संगोष्ठी के एजेंडे में तर्क-वितर्क, अलग-अलग विशेषज्ञों एवं सच्चे जीवंत अनुभव से प्रोत्साहन देना सम्मिलित है।

मैं आपको विश्वास देता हूँ कि यह संगोष्ठी लाभप्रद होगी। साथ ही आने वाला समय आप सभी के लिए एक खुशनुमा एवं लाभकारी होगा।

आपका बहुत बहुत धन्यवाद!

स्वागत भाषण में प्रयोग की जाने वाले कविताएँ

आप अपने स्वागत भाषण में अथिति को अच्छा एवं विशेष प्रदर्शित करने के लिए कुछ कविता की पंक्ति भी कह सकते है, जैसे –

जो दिल का हो खूबसूरत 

खुदा ने  ऐसे लोग कम बनाये है 

जिन्हें ऐसा बनाया है खुदा ने 

आज वो हमारी महफ़िल में आये है।

हार को जीत की एक दुआ मिल गई

तपन मौसम में ठंडी हवा मिल गई।

आप आये श्री मान जी यू लगा,

जैसे तकलीफ को कुछ दवा मिल गई।

स्वीकार आमंत्रण किया,

रखा हमारा मान,

कैसे करे कृतज्ञता,

स्वागत है श्री मान।

मंच पर भाषण देते समय जरुरी बिंदु

  • नकारात्मक एवं अविश्वास की मानसिकता से बचे।
  • अपने भाषण से संबंधित विषय की अच्छी जानकारी याद कर लें।
  • तैयार भाषण को ज्यादा से ज्यादा पढ़ें।
  • भाषण में कुछ हास्य एवं व्यंग्य का पुट जरूर सम्मिलित करें।
  • मंच पर हमेशा आत्मविश्वास से भरे रहे।

मुख्य अतिथि के स्वागत भाषण सम्बंधित प्रश्न

अपने भाषण में अतिथियों का मंच पर कैसे स्वागत करना है?

यहाँ उपस्थित सभी जणमान्य इस बात से बहुत प्रफुल्लित है कि आज जैसे महान अथिति/ अतिथिगण बीच इस कार्यक्रम में पधारे है। अब मैं बहुत ही आदर भाव से कार्यक्रम के मंच में आने के लिए आमंत्रित करता हूँ। जिससे हम सभी लोगों को आपके विचार जान सकेंगे और इस कार्यक्रम का विधिवत शुभारंभ कर सके।

अपने भाषण को शुरू करने से पहले क्या बोलना है?

एक अच्छे भाषण की पहचान उससे पहले दिया जाने वाला सम्बोधन से होती है। आपको सभी उपस्थित लोगो को अभिनन्दन शब्द कहने के बाद हिंदी में अतिथि और कार्यक्रम में मौजूद सभी सदस्यों का स्वागत-सत्कार और अभिवादन करने वाले वाक्य कहने है।

स्वागत भाषण को कैसे शुरू करना है?

आपको हमेशा इस बात पर ध्यान देना होगा कि आप जिस भी विषय पर अपना भाषण देना चाहते हो उसके लिए आपको पूर्ववत ही अच्छी तैयारी कर लेनी चाहिए। आप सुप्रभात/दोपहर/ शाम, यहाँ पर उपस्थित सभी लोगों का धन्यवाद। हम आप में से उन लोगो का स्वागत करना चाहते है जो अधिक समय से हमारे साथ सम्बंधित है।

किसी व्यक्ति का स्वागत कैसे करना है?

कार्यक्रम में अपने भाषण के दौरान किसी व्यक्ति का स्वागत करने में आपको ध्यान रखना है कि अपने उस व्यक्ति के विषय में सभी एवं पूर्ण जानकारी प्राप्त कर लेनी है। उदाहरण के लिए उस व्यक्ति एक नाम, उनका व्यवसाय आदि। इसके तुरंत बाद आपको सम्मानजनक शब्दों से साथ अतिथि का स्वागत करना है। यदि आपको ऐसी स्थिति में अपना भाषण देना है जहाँ आप कुछ ज्यादा कह नही सकते तो आपको फूल की माला पहना सकते है।

Leave a Comment

Join Telegram