(रजिस्ट्रेशन) मुख्यमंत्री अनुप्रति कोचिंग योजना 2023: ऑनलाइन आवेदन, लाभ व पात्रता सूची

राजस्थान सरकार ने राज्य के आर्थिक रूप से कमज़ोर परन्तु पढ़ाई में अच्छे अंक प्राप्त करने वाले छात्रों की सहायता के लिए अनुप्रति कोचिंग योजना को तैयार करवाया हैं। योजना के अंतर्गत इन छात्रों को विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं के प्रवेश परीक्षा की तैयारी हेतु वित्तीय मदद प्रदान की जायगी। योजना को विभिन्न वंचित समुदायों जैसे कि अनुसूचित जाति/जनजाति, विशेष/अन्य पिछड़ा वर्ग, एवं सामान्य वर्ग के बीपीएल परिवारों के छात्रों के लिए कार्यान्वित किया जायगा। इस प्रकार से हम देख सकते हैं कि सरकार वर्तमान समय में समाज में हासिये पर आने वाले नागरिको को भविष्य में सशक्त एवं समृद्ध बनाने का प्रयास कर रही हैं।

राज्य के सीएम ने 6 जून 2021 के दिन अनुप्रति कोचिंग योजना की शुरुआत की थी। योजना के लाभार्थी बनने के लिए राज्य के वंचित समाज के छात्रों को ऑनलाइन आवेदन के बाद मेरिट चयन से गुजरना होता हैं। सूची में नाम पाने वाले छात्रों को संस्थानों से कोचिंग करने का अवसर राज्य सरकार देगी। एक बार पंजीकृत होने वाले छात्रों को दसवीं, बाहरवीं, सरकारी सेवा की परीक्षा और व्यावसायिक पाठ्यक्रम प्रवेश परीक्षा के लिए आर्थिक सहायता मिलेगी।

योजना के माध्यम से विद्यालय, विश्विद्यालय के छात्रों को अपनी तैयारी करने में सरकार से सहायता मिलेगी। यदि किस व्यक्ति को योजना की अधिक जानकारी प्राप्त करनी हो तो अनुप्रति कोचिंग योजना लेख में योजना से सम्बंधित जानकारियों को ध्यानपूर्वक पढ़ें।

Mukhyamantri Anuprati Yojana

यह भी देखें :-राजस्थान मुख्यमंत्री उच्च शिक्षा छात्रवृति योजना

योजना का नामराजस्थान अनुप्रति योजना
योजना के कार्यान्वकराजस्थान सरकार
लाभार्थीराज्य के वंचित छात्र
आवेदन माध्यमऑनलाइन
उद्देश्यप्रतियोगी परीक्षा तैयारी के लिए धन देना
श्रेणीसरकारी योजना
आधिकारिक वेबसाइटhttps://sje.rajasthan.gov.in/

Table of Contents

मुख्यमंत्री अनुप्रति कोचिंग योजना के उद्देश्य

Mukhyamantri Anuprati Coaching Yojana राजस्थान सरकार ने भारतीय सिविल परीक्षा के विभिन्न स्तरों की परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले एससी/एसटी वर्ग से सम्बंधित छात्रों का उत्साह और अधिक बढ़ाने के लिए 1 लाख रुपए की धनराशि देने की योजना बनाई हैं। यह राशि एकमुश्त नहीं दी जाएगी अपितु छात्रों के प्रदर्शन के अनुसार विभिन्न चरणों में अलग-अलग भागो में दी जाती हैं। योजना का लाभ लेने के लिए छात्र को उचित समुदाय का होना होगा साथ ही उनकी पारिवारिक आय 2 लाख रुपए वार्षिक से अधिक नहीं होनी चाहिए।

सरकारी सेवा की तैयारी के साथ-साथ विभिन्न राजकीय प्रोफेशनल पाठ्यक्रम जैसे तकनीकी और चिकित्सा में प्रवेश लेने वाले छात्रों को भी 10 हज़ार रुपयों की धनराशि दी जाएगी। इस प्रकार से राज्य के वंचित समुदाय के होनहार बच्चों को विभिन्न महत्वपूर्ण परीक्षाओं के द्वारा अपना कॅरियर को उन्नति देने में सहायता मिलेगी।

मुख्यमंत्री अनुप्रति कोचिंग योजना के दिशा निर्देश

  • Mukhyamantri Anuprati Coaching Yojana का कार्यान्वन के लिए नोडल एजेंसी सामाजिक न्याय और आधिकारिता विभाग होगा।
  • योजना के अंतर्गर लाभार्थी को एक वर्ष तक लाभ दिया जायगा।
  • मुख्यमंत्री अनुप्रति कोचिंग योजना की आज्ञा मिलने के बाद सरकार इसके परिचालन के लिए दिशा-निर्देश की घोषणा करेगी।
  • पुरानी योजना का लाभ सिर्फ दो छात्रों को मिलेगा जो वर्तमान में कोचिंग ले रहे हो।
  • यदि लाभार्थी किसी अन्य नगर के संस्थान में कोचिंग करता हो तो छात्र को 40 हज़ार रुपए प्रति वर्ष दिए जाएगी।
  • आवेदकों की आधारभूत सूचनाएँ जैसे नाम, जाति, लिंग, आयु, माता-पिता का नाम, धर्म, बैंक खाता संख्या, मोबाइल नंबर एवं परिवार की आय का विवरण जनाधार वेबपोर्टल से प्राप्त की जाएगी।
  • आवेदक का शैक्षिक रिकॉर्ड और जनाधार वेबपोर्टल पर के डेटा में अनियमितता होने पर प्रमाण पत्रों के आधार पर जनाधार वेबपोर्टल पर ही परिवर्तन करना अनिवार्य होगा।
  • कोचिंग संस्थानों के द्वारा प्रस्ताव और छात्र आवेदकों द्वारा sso पोर्टल पर ही विभाग के दिशा-निर्देशों के अनुसार ऑनलाइन आवेदन किये जाएंगे।
मुख्यमंत्री अनुप्रति कोचिंग योजना आवेदन तिथि जल्द जारी की जाएगी
अंतिम तिथि ऑनलाइन आवेदन पत्रजल्द जारी की जाएगी
आधिकारिक अधिसूचनायहां क्लिक करें
आधिकारिक वेबसाइटयहां क्लिक करें

सीएम अनुप्रति कोचिंग योजना के विभिन्न लाभ

  • योजना के अंतर्गत चुने जाने वाले लाभार्थियों को प्रत्येक वर्ष 5-5 लाख रुपए की धनराशि दी जाएगी।
  • योजना के अंतर्गत कक्षा ग्यारहवीं और बारहवीं में अकादमिक पाठ्यक्रम के लिए और विश्वविद्यालय में अंतिम 2 वर्ष में रोज़गारपरक कोचिंग संस्थानों से तैयारी करायी जाती हैं।
  • योजना को सीएम के द्वारा वर्ष 2021 में राज्य के वंचित समुदाय के बच्चों को ध्यान में रखकर की गयी थी।
  • राज्य में रहने वाले निर्धन परिवारों के बच्चो के जीवन के लिए एक स्वर्णिम अवसर हैं जिससे वे अपने जीवन की दशा और दिशा दोनों बदल सकते हैं।
  • योजना की रुपरेखा को राज्य सरकार ने तैयार किया हैं और योजना को अनुसूचित जाति/ जनजाति, विशेष बीसी/ ओबीसी आदि वर्गों से सम्बंधित छात्रों की स्थिति को देखते हुए कार्यान्वित किया गया हैं।

अनुप्रित योजना के लिए पात्रताएँ

  • आवेदक राजस्थान राज्य का मूल निवासी हो।
  • विद्यार्थी के परिवार की वार्षिक आय आठ लाख से अधिक ना हो।
  • आवेदक राजस्थान पीएससी द्वारा आयोजित राज्य और अधीनस्थ सेवा की परीक्षा से नौकरी पर न हो।
  • आवेदक एससी, एसटी, ओबीसी, विशेष बीसी, और सामान्य वर्ग का बीपीएल परिवार से हो।
  • आवेदक ने प्रतियोगी परीक्षा का निर्धारित चरण उत्तीर्ण किया हो और प्रवेश परीक्षा को उत्तीर्ण करके सूची में आने वाले संस्थानों में प्रवेश ले चूका हो।
  • राजकीय इंजीनियरिंग अथवा मेडिकल में प्रवेश के लिए छात्र के बाहरवीं में 60 प्रतिशत अंक आये हो।
  • मैट्रिक स्तर 11 तक राज्य कर्मचारियों के बच्चे योजना के लिए पात्र होंगे। यद्यपि अभिभावकों को बोर्ड/निगम/कार्यरत वेतन भोगी में कार्यरत होने पर विभागाध्यक्ष कार्यालय नियोक्ता से आय प्रमाण पत्र लाना होगा।

सीएम अनुप्रति योजना में आवेदन के लिए आवश्यक प्रमाण पत्र

  • विद्यार्थी का आधार कार्ड
  • शपथ पत्र
  • निवास प्रमाण पत्र
  • परिवार की वार्षिक आय का प्रमाण पत्र
  • आवेदक का जाति प्रमाण पत्र
  • सामान्य वर्ग के लिए बीपीएल प्रमाण पत्र
  • मोबाइल नंबर
  • ईमेल आईडी
  • विधार्थी का नवीनतम पासपोर्ट आकार फोटो
  • आवेदक की विभिन्न चरणों की प्रतियोगी परीक्षाओं के प्रमाण पत्र
  • रोज़गारपरक पाठ्यक्रमों (तकनीकी/ चिकित्सा) के प्रवेश परीक्षा उत्तीर्ण का प्रमाण एवं प्रवेश प्राप्ति का प्रमाण

अनुप्रति कोचिंग योजना के लिए अंक प्रतिशत का विवरण

कक्षासमुदायन्यूनतम प्रतिशतचिकित्सा कोचिंग का न्यूनतम प्रतिशत
दसवींअनुसूचित जाति/जनजाति, विशेष पिछड़ा वर्ग60%70 %
दसवींसामान्य/ अन्य पिछड़ा वर्ग70 %80 %
स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमअनुसूचित जाति/जनजाति, विशेष/अन्य पिछड़ा वर्ग और सामान्य वर्ग60 %

कोचिंग योजना में चयन प्रक्रिया

  • योजना के अंतर्गत आवेदन करने वाले छात्रों को उनके दसवीं और बाहरवीं के अंक-प्रतिशत के अनुसार चयनित किया जायगा।
  • विभाग प्रत्येक ज़िलों को योजना के लिए लक्ष्य प्रदान करेगा।
  • श्रेष्ठता सूची में स्थान पाने वाले छात्रों की संस्थान में व्यवस्था की जाएगी।
  • योजना के अंतर्गत आने वाली सीटों में से 50 प्रतिशत पर महिला लाभार्थी चयनित होगी।
  • योजना के अंतर्गत अनुसूचित जनजाति वर्ग के लिए आदिवासी क्षेत्रीय विभाग को कार्य सौपा जाएगा।
  • सामाजिक न्याय और आधुकरिता विभाग के द्वारा एससी, ईडब्लूएस, बीसी और ओबीसी छात्रों का चयन किया जायेगा।
  • अल्पसंख्यक वर्ग के छात्रों के लिए योजन का सञ्चालन अल्पसंख्यक कार्य विभाग करेगा।

योजना में श्रेष्टता निर्धारण सूची का विवरण

सर्वप्रथम योजना में आवेदन करने वाले छात्रों की श्रेष्ठता का निर्धारण उनके दसवीं और बाहरवीं के अंको के अनुसार होगा। सीबीएसई बोर्ड से दसवीं और बाहरवीं कक्षा उत्तीर्ण करने पर छात्र के प्रतिशत को 0.9 से गुना करके प्रतिशत प्राप्त किया जायगा (उदाहरण के लिए यदि किसी छात्र को 9 ग्रेड मिले हो उसके 81 प्रतिशत अंक माने जायेगे)। आरबीएससी बोर्ड से दसवीं-बाहरवीं करने वाले छात्रों के प्रतिशत को यथारूप में स्वीकृत किया जायगा। लाभार्थियों की श्रेष्ठता सूची को तैयार करते समय इस बात का ध्यान रखा जाएगा कि सूची में 50 प्रतिशत कन्याएँ हो।

योजना के अंतर्गत कोचिंग संस्थानों का चयन

राजस्थान के शिक्षा विभाग से अधिकारी मनोज कुमार के द्वारा सूचना मिली कि इस योजना के लिए 99 कोचिंग संस्थानों से आवदेन प्राप्त हुए थे, इनमे से 45 कोचिंग संस्थानों को सूची में सम्मिलित किया गया था। आरएएस, सिविल सेवा, तकनीकी, क्लैट और चिकित्सा परीक्षाओं की तैयारी करने के लिए विभाग ने प्रतिष्ठित कोचिंग संस्थानों का चयन किया हैं।

छात्रों के लिए कोचिंग संस्थानों को सूचीबद्ध किया गया हैं जिसके अंतर्गत संस्थानों को प्रतिष्ठित और सामान्य कोचिंग संस्थानों की दो अलग-अलग श्रेणी में बाँटा गया हैं। जिन संस्थानों के कम से कम पांच छात्रों को चयन मिला होगा उन्हें प्रतिष्ठित संस्थान की श्रेणी डाला जायगा। साथ ही इन संस्थानों से पिछले परीक्षा में टॉप 100 में छात्रों को स्थान मिला हो।

मुख्यमंत्री के द्वारा 123 नए विश्वविद्यालयो का शुभारंभ

राज्य में शिक्षा के क्षेत्र को और अधिक विस्तारित करने के लिए सीएम ने विभिन्न कॉलेजो की घोषणा की हैं। इस प्रकार से उच्च शिक्षा को उन्नति देने के लिए सरकार द्वारा बहुत से आवश्यक कार्य किये गए हैं। सीएम के द्वारा लगभग 500 कन्याओं के लिए सरकारी माध्यमिक विद्यालयों को उन्नत करने के बजट का प्रावधान किया गया हैं। कोचिंग योजना से राज्य की कन्याओं को अपने घर के समीप ही शिक्षा पूर्ण करने की सुविधा मिलेगी और उच्च शिक्षा में उनके अनुपात में वृद्धि होगी।

  • सीएम ने योजना के अंतर्गत 123 नए विद्यालयों का आरम्भ किया हैं।
  • मुख्यमंत्री के द्वारा लगभग 45 करोड़ की धनराशि से 11 नए विश्वविद्यालयों के भवनों का शुभारम्भ और अन्य की आधारशिला रखी जा चुकी हैं।
  • इसके साथ ही राज्य में 5000 से ज्यादा जनसंख्या वाले कस्बो और गाँवों में अंग्रेजी माध्यम से शिक्षा देने वाले विद्यालयों को स्थापित किया जायेगा।

अनुप्रति योजना की प्रोत्साहन धनराशि का विवरण

योजना के अंतर्गत मिलने वाली धनराशि को नीचे दी गयी सारणी से समझा जा सकता हैं –

विवरणराजस्थान पीएससी की परीक्षा के लिएभारतीय सिविल सेवा परीक्षा के लिए
प्रारंभिक परीक्षा उत्तीर्ण करने पर 25 हज़ार रुपए65 हज़ार रुपए
मुख्य परीक्षा उत्तीर्ण करने पर20 हज़ार रुपए30 हज़ार रुपए
साक्षात्कार उत्तीर्ण करने पर5 हज़ार रुपए5 हज़ार रुपए
कुल प्रोत्साहन धन राशि50 हज़ार रुपए1 लाख रुपए

योजना के अंतर्गत आने वाली प्रतियोगी परीक्षाओं की सूची

UPSC (संघ लोक सेवा आयोग) से सम्बंधित

  • भारतीय सिविल सेवा परीक्षा
  • रीट परीक्षा
  • आरएएस और अधीनस्थ सेवा परीक्षा
  • राजस्थान लोक सेवा आयोग
  • सहायक निरीक्षक

SSC (कर्मचारी चयन आयोग) से सम्बंधित

  • पुलिस कांस्टेबल परीक्षा
  • पदक्रम वेतन 2400 अथवा वेतन आव्यूह स्तर 5 से ऊपर

पाठ्यक्रम प्रवेश परीक्षा से सम्बंधित

  • इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा
  • चिकित्सा प्रवेश परीक्षा
  • क्लैट

अन्य प्रवेश परीक्षाएँ

  • राजस्थान पटवारी परीक्षा
  • राजस्थान कनिष्क सहायक

मुख्यमंत्री अनुप्रति कोचिंग योजना के लिए आवेदन प्रक्रिया

योजना के लिए आवश्यक पात्रता एवं प्रमाण पत्र रखने वाले छात्र आवेदन कर सकते हैं। इसके लिए पहले उन्हें आवेदन प्रक्रिया को भली-भांति जान लेना होगा अन्यथा उपर्युक्त पात्रता होने पर भी आवेदन की त्रुटि से योजना के लाभ से वंचित हो सकते हैं। योजना की आवेदन प्रक्रिया निम्न प्रकार से हैं –

  • सर्वप्रथम आवदेक को सामाजिक न्याय और अधिकारिता विभाग की आधिकारिक वेबसाइट https://sje.rajasthan.gov.in/schemes/EduDev.html ओपन करनी होगी।
  • वेबसाइट के होम पेज पर “अनुप्रित स्कीम” विकल्प को चुने। Mukhyamantri Anuprati Yojana - choosing anuprati scheme option
  • आपको एक नए विंडो में योजना से सम्बंधित विभिन्न जानकारी मिलेगी और पेज के नीचे के भाग में “आईएएस, आरएएस के लिए आवेदन प्रारूप” विकल्प को चुनना होगा।
  • आपको एक नए टैब में आवेदन प्रपत्र प्राप्त होगा।
  • प्रारूप का प्रिंट ले कर सभी जानकारियाँ भर दें और सभी सम्बंधित प्रमाण पत्र संलग्न करके अपने ज़िले के संभागीय जिला मजिस्ट्रेट के कार्यालय में जमा करें।
  • छात्र को अपना आवेदन पत्र शिक्षण संस्थान में प्रवेश लेने के तीन महीने के भीतर जमा करना होगा।
  • इन चरणों के माध्यम से आप अपना आवेदन सही प्रकार से कर सकेंगे।
आईआईटी, आईआईएम के लिए आवेदन प्रपत्र डाउनलोड करना
  • सबसे पहले आवेदक को योजना की आधिकारिक वेबसाइट को ओपन करना होगा।
  • एक नए विंडो पेज में नीचे की ओर “आईआईटी, आईआईएम आदि के लिए आवेदन-पत्र का प्रारूप” विकल्प को चुन लें।
  • आपको स्क्रीन पर आवेदन का प्रारूप देखेगा इसको प्रिंट कर लें।
  • आवेदन प्रपत्र को सही प्रकार से भरने के बाद प्रमाण पत्र संलग्न करके सम्बंधित कार्यालय में जमा कर दें।

अनुप्रति योजना नियम, 2012 को डाउनलोड करना

  • सबसे पहले योजना से सम्बंधित आधिकारिक वेबसाइट को ओपन कर लें।
  • एक नए वेब पेज पर आपको नीचे की ओर “अनुप्रति योजना नियम 2012” विकल्प को चुनना होगा।Mukhyamantri Anuprati Yojana - anuprati yojna niyam, 2012
  • एक अलग विंडो में नियमो का पीडीएफ प्रदर्शित हो रहा होगा।
  • इन नियमो को डाउनलोड और प्रिंट करके सुरखित रख सकते हैं।

आर्थिक पिछड़े वर्ग के छात्रों के लिए योजना के नियम डाउनलोड करना

  • सबसे पहले आवेदक योजना की आधिकारिक वेबसाइट को ओपन कर लें।
  • योजना के वेब पेज पर नीचे की ओर आर्थिक “पिछड़े वर्ग के विद्यार्थियों के लिए अनुप्रति योजना नियम, 2013” विकल्प को चुन लें।
    Mukhyamantri Anuprati Yojana - arthik pichda varg ke niyam
  • आपके ब्राउज़र में नई टैब में नियम प्रदर्शित होंगे।
  • इन नियमो को प्रिंट या डाउनलोड विकल्प की सहायता से सुरक्षित अपने पास ले सकते हैं

राजस्थान अनुप्रति योजना से सम्बंधित प्रश्न

योजना से क्या लाभ होता हैं?

योजना के द्वारा वंचित वर्ग के मेधावी बच्चो को प्रतियोगी की तैयार एवं राष्ट्रिय स्तर की तकनीकी/ चिकित्सा शिक्षा के लिए धनराशि प्रदान की जायगी। योजना का लाभ लेने के लिए विद्यार्थी के पास उचित प्रमाण पत्र एवं पात्रता होनी चाहिए।

योजना के लाभार्थी कैसे बन सकते हैं?

योजना से सम्बंधित आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन आवेदन करना होगा और आवश्यक प्रमाण पत्रों को अपलोड करना होगा।

अनुप्रति कोचिंग योजना के लिए आवदेन समय सीमा क्या हैं?

योजना के अंतर्गत आवदेक को अपने शैक्षिक संस्थान में कोचिंग से पहले तीन माह के भीतर जिले के विभागीय जिलाधिकारी कार्यालय में जमा करना होगा।

कोचिंग योजना का लाभ किनको मिलेगा?

राजस्थान राज्य के प्रतिभाशाली वंचित समाज के छात्र जो प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए घर से दूर कोचिंग ले रहे हैं।

कोचिंग योजना से सम्बंधित किसी अन्य प्रकार की शंका/समस्या के लिए हेल्पलाइन नंबर क्या हैं?

यदि किसी छात्र को योजना के आवेदन अथवा योजना से सम्बंधित कोई अन्य प्रश्न पूछना हो तो हेल्पलाइन नंबर 1800 180 6127 पर संपर्क करें। ईमेल के माध्यम से प्रश्न करने के लिए ईमेल एड्रेस raj.sje@rajasthan.gov.in पर ई-मेल भेजे।

अनुप्रति कोचिंग योजना के अंतर्गत छात्रों को भोजन और आवास की लिए कितनी धनराशि मिलती हैं?

योजना के अनुसार लाभार्थी छात्रों को आवास और भोजन के लिए प्रति वर्ष 40 हज़ार रुपए दिए जाते हैं।

Leave a Comment