ED Full Form in Hindi – ED का फुल फॉर्म क्या है? ED ki puri jankari Hindi Me

आजकल विभिन्न समाचार पत्रों एवं न्यूज़ वीडियोस में ईडी विभाग की कार्यवाही की खबरे आती रहती है। सामान्यतया लोग यही जानते है कि ईडी एक छापेमारी करने वाला सरकारी विभाग है। ईडी का हिंदी फुल फॉर्म प्रवर्तन निदेशालय है तथा इंग्लिश में ED (Enforcement Directorate) के नाम से जानते हैं, जो भारत सरकार की एक विशेष जाँच एजेंसी के रूप में कार्य करती है। विभाग का कार्यालय दिल्ली में स्थित है और यह वित्त मंत्रालय के अंतर्गत कार्य करने वाली संस्था है। आम तौर पर अधिकतर लोग ईडी के कार्यों की जानकारी तो रखते है परन्तु ED का फुल फॉर्म नहीं जानते है। प्रवर्तन निदेशालय देश में आर्थिक एवं विदेशी मुद्रा कानून उल्लंघन मामलों की जाँच -पड़ताल करती है।

ed ki puri jankari Hindi Me

ईडी एक गैर-संविधानिक संस्था है अतः इसका संविधान में वर्णन नहीं है। पहले ईडी फेरा अधिनियम के अंतर्गत कार्यवाही करती थी परन्तु वर्तमान समय में इसकी जगह फेमा अधिनियम लागू है। ईडी को देश में मुख्य रूप से विदेशी संपत्ति के मामले, धन शोधन के अपराध, आय से ज्यादा संपत्ति एवं अन्य मामलों की पूछताछ करनी होती है। यह केंद्र सरकार की उन संस्थाओं में से एक है जो पुरे देश में भ्रष्टाचार के विरुद्ध कार्यवाही करती है। अपनी कार्यवाहियों को करने के लिए ईडी के पाँच प्रमुख कार्यालय है, जो मुंबई, चंडीगढ़, चेन्नई, कोलकाता एवं दिल्ली में स्थित है। इस लेख के माध्यम से आपको ED Full Form in Hindi के साथ इसके कार्य, अधिकार की जानकारी मिलेगी।

यह भी देखें :- MLC का फुल फॉर्म क्या है ?

लेख का विषयईडी का विस्तृत नाम
सम्बंधित विभागराजस्व विभाग
स्थापना वर्ष01 मई 1956
लाभार्थीसभी लोग
आधिकारिक वेबसाइटenforcementdirectorate

ईडी के मौलिक सिद्धांतो की जानकारी

भारत सरकार के एक प्रमुख आर्थिक जाँच एजेन्सी होने के साथ प्रवर्तन निदेशालय देश के संविधान एवं कानूनों का पालन करते हुए अपनी जिम्मेदारी पूरी करता है। विभाग के उच्च व्यावसायिक मानक निम्न प्रकार से है –

  • सत्यनिष्ठा – नैतिकता के सिद्धांत, ईमानदारी एवं सच्चाई को मज़बूती देना। अपने आचरण एवं चरित्र में उच्च मानकों का प्रदर्शन करना। अपनी सूचनाओं के इस्तेमाल में पूरी विश्वनीयता बनाये रखना।
  • उत्तरदायित्व – विभाग से सम्बंधित प्रत्येक व्यक्ति को उससे अपेक्षा से परिचित रखना और उनके कार्य के मूल्यांकन और उनकी सफलता का मापन-निर्धारण करने की जानकारी देना। इसके अतिरिक्त अपने कार्यों एवं कोशिशो के नतीजों की स्वीकृति का दायित्व रखते है।
  • प्रतिबद्धता – विभाग में परिणाम प्राप्त करने के लिए समर्पित होने को प्रतिबद्धता के रूप में लिया जाता है। हमारा उत्तरदायित्व अपने कर्तव्यों के सभी कामों में अपने उपयोग कर लेने के प्रति समर्पित करता है। अपने दल एवं संघठन के उद्देश्यों को पूर्ण करने के लिए प्रयत्नशील रहना।
  • उत्कृष्टता – अपनी तंत्र एवं प्रणाली को विकसित करते रहना और अपनी अक्षमताओं को समाप्त करके निरंतर सुधारीकरण करते रहना। अच्छे वैश्विक अभ्यास को अपने जाँच कौशल में लाकर अपनी धार को मजबूती देना।
  • निष्पक्षता – अपनी जाँच प्रक्रिया को निष्पक्ष और न्यायसंगत रखना। अपने कार्यो में सच को प्रदर्शित एवं अनुपालन करना और निर्भीक-पक्षपातरहित निर्णय देना। किसी के प्रति द्वेष और पूर्वाग्रह के बिना कार्यवाही करना।

प्रवर्तन निदेशालय के कार्य

निदेशालय हमेशा विधान के अंतर्गत कार्यवाही करता है, अतः इनकी कार्य प्रणाली के लिए कुछ अधिनियम तैयार करवाए है जो कि निम्न प्रकार से है –

  • विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम, 1999 (फेमा) – संस्था के लिए वर्ष 2002 में यह अधिनियम पारित हुआ था। इसके अंतर्गत अपराधी के ऊपर अर्ध-न्यायायिक जाँच के समय अपराध साबित होने पर व्यक्ति/ संस्था/ इकाई पर संलिप्त राशि से तीन गुना तक अर्थ दंड लगाते है।
  • धन शोधन निवारण अधिनियम, 2002 – ये एक प्रकार का आपराधिक कानून है। जिसके तहत धन शोधन की रोकथाम एवं धन शोधन में शामिल अथवा इसमें मिलने वाली संपत्ति को सीज़ करने के अधिकार है। प्रवर्तन निदेशालय अपराध से प्राप्त धन से संपत्ति का पता लगाने, संपत्ति का अस्थाई तौर पर संलग्नना एवं सम्बंधित व्यक्तियों पर मुकदमे चलवाते है। साथ ही विशेष न्यायालय के माध्यम से अमुख संपत्ति को जब्त करवाते है।
  • विदेशी मुद्रा संरक्षण एवं तस्करी गतिविधि निवारण अधिनियम, 1974 माध्यम से विदेश में संपत्ति एवं हवाला की गतिविधियों की जाँच करना।
  • अपराधी पर फेमा के उल्लंघन सिद्ध होने पर उसकी संपत्ति की कुर्की करना।ed ki puri jankari Hindi Me - investigation

ईडी के अधिकार

  • देश के नागरिक एवं संस्था द्वारा किये जा रहे गैर-क़ानूनी कार्यों के विरुद्ध प्रवर्तन निदेशालय कार्यवाही कर सकता है।
  • केंद्र की सरकार के लिए आर्थिक जाँच-पड़ताल करने के लिए ईडी को फेरा 1973 एवं फेमा 1999 अधिनियमों के माध्यम से अधिकार मिले है।
  • ईडी विदेश में स्थित किसी संपत्ति पर कार्यवाही करने के बाद रोकथाम कर सकती है।
  • मनी लॉन्ड्रिंग के अपराधों में सम्बन्धित व्यक्तियों की गिरफ़्तार, खोज एवं जब्ती कर सकती है।
  • सरकार की ओर से ईडी को विदेशी मुद्रा अधिनियम के अंतर्गत होने वाले अपराधों पर कार्यवाही करने की पूरी आजादी दे रखी है।

भारत में ईडी के कार्यालय

अहमदाबाददिल्लीलखनऊ
पटनाकोलकातागुवाहाटी
चंडीगढ़गुवाहाटीजयपुर
श्रीनगरहैदराबादचेन्नई
बेंगलुरुजालंधरकोच्चि
मुंबईपणजी

ed ki puri jankari Hindi Me - zonal office

ईडी के संचालन की जानकारी

  • विभाग को विभिन्न माध्यमों से जैसे ख़ुफ़िया विभाग, राज्य सरकार, एफआईआर इत्यादि से फेमा, 1999 के उल्लंघन के अंतर्गत की जानकारी एकत्रित करके रिपोर्ट बनाना और प्रचारित करना है।
  • PML अपराधी के विरुद्ध ईडी जाँच, कोर्टकेस, तलाशी, सजा इत्यादि को संचालित करती है।
  • विभाग पूर्व के फेरा 1973 के अंतर्गत अपील एवं वैधानिक कार्यवाही करता है।
  • देश में गैर-कानूनी कार्यों को हटाने एवं PML A के अंतर्गत संलिप्त अपराधियों की राज्य सरकार को सुपुर्दगी करके संयुक्त क़ानूनी सहायता देना है।

ईडी विभाग में नियुक्ति की जानकारी

विभाग में असिस्टेंट एनफोर्समेंट अधिकारी (AEO) की नियुक्ति एसएससी (सीजीएल) के माध्यम से की जाती है। देश में 18 से 30 वर्ष आयु का कोई भी स्नातक स्तर का छात्र प्रत्येक वर्ष इसकी परीक्षा में सम्मिलित हो सकता है। इस पद के अधिकारी को सातवें वेतन कमीशन के अंतर्गत 44,900 रुपए प्रति माह वेतन मिलता है। वेतन में अन्य प्रकार से भत्ते जुड़ने के बाद वेतन X शहरों में 63186 रूपये एवं श्रेणी Y शहरों में 57,794 रुपए रहती है।

ईडी में अधिकारी की नियुक्ति – विभाग के द्वारा समय-समय पर आवश्यकता के अनुसार विभिन्न पदों की रिक्तियाँ आती रहती है। इसमें से प्रमुख है – निदेशक, सह-निदेशक, उप-निदेशक एवं अन्य, इन पदों पर इंडियन रेवेन्यू सर्विस के अधिकारी नियुक्त होते है।

ED का फुल फॉर्म से सम्बंधित प्रश्न

ईडी विभाग का क्या अर्थ है?

ईडी का विस्तृत नाम प्रवर्तन निदेशालय है जिसका मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है। विभाग फेमा एवं धन शोधन निवारण अधिनियम के अंतर्गत कार्यवाही करता है।

कोई व्यक्ति ईडी विभाग कैसे संपर्क कर सकता है?

इसके लिए सबसे पहले पुलिस अथवा किसी अन्य एजेंसी में शिकायत दर्ज़ करनी है और इसके बाद प्रवर्तन निदेशालय सम्बंधित मामले की जाँच-पड़ताल करके अपराधी की पहचान कर सकेगा।

निदेशालय से क्या अर्थ है?

यह एक केंद्रीय कार्यालय है जहाँ से अपने अधीन कार्यकर्ताओं को उनसे सम्बंधित कार्यों के निर्देश मिलते है। इसका संचालन स्वयं निदेशक (Director) के माध्यम से होता है।

ईडी विभाग से संपर्क करने के लिए क्या नंबर है?

प्रवर्तन निदेशालय से किसी प्रकार की जानकारी साझा करने के लिए दिल्ली के फ़ोन नंबर 2333-9124 पर संपर्क स्थापित कर सकते है।

Leave a Comment