सीआईडी और सीबीआई में क्या अंतर है – Differences Between CBI and CID in Hindi

सीआईडी और सीबीआई में क्या अंतर है : दोस्तों जैसा की अक्सर आपने CBI और CID के बारे में सुना ही होगा, कई बार लोगों को इन दोनों में अंतर पता नहीं चलता। देश में अलग-अलग आपराधिक मामलों के निपटान के लिए जाँच एजेंसी स्थापित की गई है, जिनमे CID और CBI भी आपराधिक मामलों की जाँच व उनके निपटारे के लिए बनाई गई इन्वेस्टीगेशन एजेंसी है, दोनों एक ही काम करती है, लेकिन दोनों के काम करने का क्षेत्र एक दूसरे से अलग है। यदि आप भी इन दोनों में अंतर जानना चाहते हैं तो इस लेख के माध्यम से हम आपको सीआईडी और सीबीआई में क्या अंतर है, इसकी पूरी जानकारी प्रदान करेंगे।

सीआईडी और सीबीआई में क्या अंतर है
सीआईडी और सीबीआई में क्या अंतर है

जाने सीआईडी और सीबीआई में क्या अंतर है

सीआईडी और सीबीआई दोनों ही आपराधिक मामले की जाँच के लिए बनाए गए विभाग है, इन दोनों ही विभाग का कार्य एक जैसा जरूर है, लेकिन इनके बीच का अंतर इन दोनों को किस तरह एक दूसरे से अलग बनाता है चलिए जानते हैं, इसका सम्पूर्ण विवरण।

CID क्या है

CID जिसका पूरा नाम Crime Investigation Department है जो की प्रदेश में अपराध जाँच विभाग के रूप में जाना जाता है, यह एक ऐसी जाँच एजेंसी है जो केवल राज्य स्तर के आपराधिक मामलों की जाँच करती है। सीआईडी की स्थापना पुलिस आयोग की सिफारिश पर ब्रिटिश आयोग द्वारा 1902 में की गई थी। CID राज्य में पुलिस का जाँच और एक खुफिया विभाग होता है। जिन्हें राज्य में किसी भी जगह हो रहे दंगे, ह्त्या, अपहरण, चोरी की जाँच सौपीं जाती है, इस विभाग में कर्मचारियों को शामिल करने के लिए पहले विशेष प्रशिक्षण दिया जाता है। देश के अलग-अलग राज्य की अपनी सीआईडी एजेंसी होती है, जिनके संचालन का अधिकार राज्य की सरकार या राज्य के हाई कोर्ट के पास होता है, जो इस विभाग को आपराधिक मामले की जाँच का जिम्मा सौंपती है।

अपराध जाँच विभाग एक ऐसी इकाई है जो स्वतंत्र रूप से आपराधिक मामलों की जाँच करती है। सीआईडी में अधिकारीयों की नियुक्त राज्य पुलिस सेवा के पर्सनल्स द्वारा की जाती है, जिनमे राज्य पुलिस सेवा से जुड़े कर्मियों का चयन सीआईडी में किया जाता है। जहाँ इनकी गतिविधियाँ गुप्त रखी जाती है। सीआईडी के अधिकारीयों पर राज्य के सभी कानून लागू होते हैं और इनकी जानकारी गुप्त रहे इसके लिए यह बिना यूनिफॉर्म के सादे कपड़ों में रहते हैं और राज्य पुलिस सेवा का एक विशेष अंग होने के नाते यह खुफिया तरीके से अपनी ड्यूटी निभाते हैं।

CBI क्या है?

CBI का पूरा नाम Central Investigation Bureau है जिसे हिंदी में केंद्रीय जाँच ब्यूरो कहा जाता है। यह पूरे भारत की जाँच एजेंसी है। जिस तरह हर देश की अपनी जाँच एजेंसी होती है उसी तरह भारत की जाँच एजेंसी CBI है, जिसका संचालन केंद्र सरकार द्वारा किया जाता है। सीबीआई की स्थापना देश में आजादी से 6 साल पहले यानी 1941 में हुई थी, जिसके बाद 1963 में इसे केंद्रीय जाँच ब्यूरो नाम दिया गया था। यह संस्था देश और विदेश स्तर पर होने वाले अपराधों जैसे घोटाले, भ्रष्टाचार और ह्त्या के मामलों और राष्ट्रीय हितों से संबंधित जाँच भारत सरकार की और से करती है। किसी राज्य के मामले में सीबीआई जाँच के लिए भारत सरकार राज्य सरकार की सहमति के बाद जाँच के आदेश सीबीआई को सौंपती है, लेकिन उच्च न्यायालय और सर्वोच्च न्यायालय बिना राज्य सरकार की सहमति के सीबीआई जाँच के आदेश दे सकती है।

सीबीआई भारत की सुरक्षा से जुड़े मसलों को सुलझाने का काम करती है, इसकी शक्तियाँ और टीम दोनों ही सीआईडी से ज्यादा बड़ी होती है, यही कारण है देश से संबंधित मामलों के लिए सीबीआई की जाँच करवाई जाती है और राज्य से जुड़े मामलों पर भी सीबीआई को आदेश के जाँच मिलने के बाद राज्य सरकारें ना ही सीबीआई पर कोई प्रभाव डाल सकती हैं और न ही किसी प्रकार का बदलाव कर सकती है।

सीआईडी और सीबीआई में अंतर

सीआईडी और सीबीआई में अंतर से जुड़ी कुछ प्रमुख जानकारी हम आपको यहाँ बताने जा रहे हैं, जिसकी जानकारी आप यहाँ से जान सकेंगे।

  • CID के काम करने का क्षेत्र एक राज्य तक सीमित होता है वहीं सीबीआई के काम करने का क्षेत्र पूरे भारत और विदेश तक का होता है।
  • देश में सीआईडी की स्थापना 1902 और सीबीआई की स्थापना 1941 में विशेष पुलिस प्रतिष्ठान के रूप में हुई थी।
  • सीआईडी का मुख्य कार्य राज्य में होने वाले आपराधिक मामलों जैसे हत्या, चोरी, दंगों की जाँच करने का होता है, जबकि सीबीआई द्वारा देश और विदेश के आपराधिक मामलों और राष्ट्रीय हितों से संबंधित की जाँच करना है।
  • सीआईडी के पास राज्य सरकार और हाई कोर्ट द्वारा जाँच के मामले सौपें जाते हैं वहीं सीबीआई को राज्य सरकार, हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट द्वारा जाँच के मामले सौंपे जाते है।
  • किसी भी व्यक्ति को सीआईडी में शामिल होने के लिए राज्य सरकार द्वारा आयोजित की जाने वाली पुलिस परीक्षा पास करने के बाद अपराध विज्ञान की परीक्षा पास करनी होती है, जबकि सीबीआई में शामिल होने के लिए व्यक्ति को एसएससी द्वारा आयोजित परीक्षा को पास करना होता है।

सीआईडी और सीबीआई में क्या अंतर है इससे जुड़े प्रश्न/उत्तर

सीआईडी की स्थापना कब हुई थी ?

सीआईडी की स्थापना 1902 में पुलिस आयोग की सिफारिश पर ब्रिटिश आयोग द्वारा की गई थी।

सीबीआई का क्या काम होता है ?

सीबीआई का काम देश और विदेश स्तर पर होने वाले अपराधों जैसे घोटाले, भ्रष्टाचार और ह्त्या के मामलों और राष्ट्रीय हितों से संबंधित जाँच भारत सरकार की और से करती है।

CBI की स्थापना कब की गई थी ?

CBI की स्थापना 1941 में विशेष पुलिस प्रतिष्ठान के रूप में हुई थी।

CID को जाँच के आदेश कहाँ से मिलते हैं ?

CID को आपराधिक मामलों की जाँच के आदेश राज्य सरकार और हाई कोर्ट द्वारा दिए जाते हैं।

सीआईडी में कैसे शामिल हुआ जा सकता है ?

सीआईडी में शामिल होने के लिए नागरिक को राज्य सरकार द्वारा आयोजित की जाने वाली पुलिस परीक्षा पास करने के बाद अपराध विज्ञान की परीक्षा पास करनी होती है।

सीआईडी और सीबीआई में क्या अंतर है इससे संबंधित सभी जानकारी हमने आपको अपने लेख के माध्यम से प्रदान करवा दी है और हमे उम्मीद है की यह जानकारी आपके लिए बहुत उपयोगी होगी, इसके लिए यदि आपको हमारा लेख पसंद आए या योजना से सम्बंधित कोई प्रश्न पूछना हो तो आप कमेंट बॉक्स में मैसेज करके पूछ सकते हैं। हम आपके प्रश्नों का उत्तर देने की पूरी कोशिश करेंगे।

Leave a Comment