नवीन रोजगार छतरी योजना 2022 उत्तर प्रदेश [ऑनलाइन फॉर्म] | UP Naveen Rojgar Chhatri-Yojana 2022 In Hindi

उत्तर प्रदेश सरकार समय-समय पर राज्य के मेहनती और वंचित वर्ग के नागरिको के लिए विभिन्न प्रकार की लाभकारी योजना को कार्यान्वित करती रहती हैं। इसी क्रम में नवीन रोजगार छतरी योजना से राज्य के अनुसूचित और निर्धन समुदाय से सम्बंधित लोगों को समृद्ध करने का प्रयोजन राज्य सरकार ने किया हैं। योजना के द्वारा निर्धन, दलित, श्रमिक नागरिको को अपना स्वरोज़गार स्थापित करने के लिए वित्तीय मदद मिलती हैं। राज्य में योजना के 3484 चयनित लाभार्थियों को पंडित दीनदयाल उपाध्याय रोज़गार योजना के अंतर्गत 17 करोड़ 42 लाख रुपए दिए जाएगे।

राज्य के मुख्यमंत्री के द्वारा 18 जुलाई 2020 के दिन योजना को राज्य के विस्थापित एवं बेरोज़गार अनुसूचित जाति से सम्बंधित परिवारों को 7.50 लाख आर्थिक सहायता देने की घोषणा की गयी। सीएम के अनुसार कोरोना महामारी के बाद राज्य में आर्थिक के साथ-साथ सामाजिक और अन्य व्यवस्थाएँ बुरी तरह प्रभावित हुई हैं। उनके अनुसार यदि राज्य का एक समुदाय कमज़ोर एवं एक मज़बूत हो जाए, तो ऐसा समाज कभी आत्मनिर्भर नहीं कहा जायेगा। महामारी के बाद राज्य में अनुसूचित जाति के विस्थापित एवं बेकार हुए परिवारों की सहायता के लिए यह योजना लायी गई हैं। नवीन रोजगार छतरी योजना के मूल लक्ष्य को पाने के लिए “सबका साथ, सबका विकास” के मन्त्र के अनुसार काम करना होगा।

नवीन रोजगार छतरी योजना- up naveen rozgaar chatri yojna 1
यूपी नवीन रोज़गार छतरी योजना की जानकारी
योजना का नामनवीन रोजगार छतरी योजना
राज्यउत्तर प्रदेश
उद्देश्यनिर्धन परिवारों को स्वरोज़गार देना
लाभार्थीयूपी के वंचित एवं श्रमिक वर्ग के नागरिक
आवेदन माध्यमऑनलाइन एवं ऑफलाइन
श्रेणीसरकारी योजना
आधिकारिक वेबसाइटअभी उपलब्ध नहीं हैं

यह भी देखें :- यूपी मुख्यमंत्री जन आरोग्य योजना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन

नवीन रोज़गार छतरी योजना के मुख्य बिन्दु

  • सीएम की भावी योजना के द्वारा राज्य के 1 करोड़ 25 लाख से अधिक श्रमिकों को रोज़गार और स्वरोज़गार पाने में सहायता मिली है।
  • योजना को राज्य के निर्धन, दलित, श्रमिक समुदाय के लोगो को वित्तीय सहायता देने के लिए तैयार किया गया है।
  • राज्य के कुछ वंचित समुदाय ले लोगो को स्वालंभी बनाने का कार्य होगा।
  • योजना के लिए प्रत्येक बैंक को कम से कम दो एससी/एसटी और महिलाओं को ऋण देने का लक्ष्य दिया जायेगा।
  • राज्य की 18 हज़ार बैंक शाखाओं के द्वारा 36 हज़ार लाभार्थियों को आर्थिक सहायता मिलेगी।

यूपी नवीन रोज़गार छतरी योजना का उद्देश्य

जैसे कि हम सभी जानते हैं कोरोना महामारी के बाद गरीब समुदाय के लोग और भी ज्यादा गरीब हो गए हैं। इस कारण से योजना का लक्ष्य राज्य के ऐसे परिवारों को सहायता देना हैं जिनकी पारिवारिक आय की स्थिति अति दयनीय हैं। कुछ परिवार तो ऐसे हैं जिनकी आय के साधन ही समाप्त हो गए हैं और वे घर पर ही बेकार बैठ कर प्रतिदिन नई परेशानियों में पहुंच रहे हैं। महामारी ने अर्थव्यवस्था को बहुत ख़राब किया हैं जिससे बहुत से पुराने रोज़गार के साधन बंद हो गए हैं। इन सभी लोगों में सबसे ज्यादा दयनीय स्थिति में राज्य के निर्धन, दलित, श्रमिक वर्गों को देखा गया हैं, जिन्हे धनराशि देकर जीवन की परेशानियों से उबारा जायेगा। योजना से मिले पैसे से ये लोग अपना रोज़गार आकर सकेंगे और समाज को संतुलित करने का लक्ष्य सफल होगा। लोग धनराशि से अपना रोज़गार शुरू करेंगे जिससे उनकी आय में वृद्धि हो सकेगी और इनके परिवार का भरण-पोषण सही प्रकार से होगा।

यूपी नवीन रोज़गार छतरी योजना के लाभ

  • योजना से राज्य के अनुसूचित जाति, निर्धन परिवार, श्रमिक आदि को लाभान्वित किया जाना हैं
  • राज्य के विस्थापित एवं बेरोज़गार दलित वर्ग के परिवारों को 7.50 लाख रुपयों की आर्थिक सहायता दी जानी हैं
  • योजना के अंतर्गत मिलने वाली धनराशि में ऋण के साथ-साथ अनुदान की राशि को भी जोड़ा गया हैं
  • निर्धन परिवार को पंडित दीनदयाल उपाध्याय रोज़गार के अंतर्गत 3,484 लाभार्थियों को खाते में 17 करोड़ 42 लाख रुपए प्राप्त होंगे
  • योजना के द्वारा मिलने वाली धनराशि को सिर्फ जनरल स्टोर, जनरेटर मशीन, लॉन्ड्री, ड्राई क्लीनिंग, साइबर कैफ़े, दर्जीगिरी, बैंक करेस्पोंडेंट, टेंट कार्य, गाय पालन में प्रयोग कर सकते हैं
  • समाज में सामाजिक स्तर के साथ आर्थिक स्तर पर बराबरी की व्यवस्था को विकसित किया जा सकेगा
  • राज्य के निर्धन लोग अपना स्वरोज़गार शुरू कर सकेंगे और आत्मनिर्भर बन सकेंगे

यूपी रोज़गार छतरी योजना में पात्रताएँ

  • आवदेक उत्तर प्रदेश राज्य का मूल निवासी हो
  • आवेदक का पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्वरोज़गार योजना में पंजीकरण हो
  • व्यक्ति अनुसूचित जाति, श्रमिक और आर्थिक रूप से निर्धन परिवार से सम्बंधित हो
  • व्यक्ति के पास योजना के लिए सभी प्रमाण पत्रों का होना आवश्यक हैं
  • अन्य राज्यों के नागरिक योजना के लिए अपात्र होंगे

नवीन रोज़गार छतरी योजना के लिए आवश्यक प्रमाण पत्र

योजना के अंतर्गत पात्र होने वाले नागरिको को अपने आवेदन के साथ कुछ प्रमुख प्रमाण पत्रों को संलग्न करना होगा। जाँच में सही और पूर्ण प्रमाण पत्र रखने वाले आवेदकों को ही योजना का अंतिम लाभार्थी बनाया जायेगा-

  • आवदेक का आधार कार्ड
  • राज्य का मूल निवासी प्रमाण पत्र
  • पहचान पत्र
  • बैंक खाता बुक
  • मोबाइल नंबर
  • नवीनतम पासपोर्ट साइज फोटोज

नवीन रोज़गार छतरी योजना की ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया

योजना की पात्रता एवं प्रमाण पत्र रखने वाले नागरिको को ऑनलाइन वेब पोर्टल के माध्यम से आवेदन करने की सुविधा प्रदान की जायगी। परन्तु आवदेन करने का मन बनाने वाले नागरिको को थोड़े समय के लिए प्रतीक्षा से गुजरना होगा चूँकि अभी सीएम के द्वारा योजना की रुपरेखा को ही सार्वजानिक किया गया हैं। भविष्य में जल्दी ही योजना का आधिकारिक वेब पोर्टल लॉन्च कर दिया जायेगा। यद्यपि आवदेन करने के लिए ऑफलाइन आवदेन की सुविधा भी मिलेगी।

नवीन रोज़गार छतरी योजना से सम्बंधित कुछ प्रश्न

नवीन रोज़गार छतरी योजना क्या हैं?

नवीन रोज़गार छतरी योजना उत्तर प्रदेश राज्य के सीएम द्वारा वर्ष 2020 में राज्य के निर्धन, अनुसूचित, श्रमिक समुदाय के नागरिको के लिए अपना रोज़गार आरम्भ करके सशक्त होने के लिए लाई गयी हैं

नवीन रोज़गार छतरी योजना के अंतर्गत लाभार्थियों को कितने रुपयों की सहायता मिलेगी?

योजना के अंतर्गत आवदेन करने के बाद पात्र पाए जाने वाले व्यक्तियों के परिवारों को 7.50 लाख रूपए की धनराशि दी जायगी जिसका प्रयोग सिर्फ स्वरोज़गार के कार्यों में करना होगा

योजना के द्वारा अब तक कितने लोगो को सहायता मिल चुकी हैं?

राज्य के 3,484 निर्धन परिवारों को पंडित दीनदयाल उपाध्याय रोज़गार योजना के अंतर्गत बैंक खातों में 17 करोड़ 42 लाख रुपए मिल चुके हैं

अन्य राज्यों से सम्बंधित नागरिक यूपी में रहकर आवेदन कर सकेंगे?

नहीं, योजना का लाभ सिर्फ यूपी राज्य के मूल निवासियों को दिया जायेगा।

Leave a Comment