Rajasthan CET Syllabus 2023 In Hindi | राजस्थान CET सिलेबस

राजस्थान में भी यूपी जो तरह ही कॉमन एलिजिबिलिटी टेस्ट के द्वारा पटवारी, सुपरवाइजर, जूनियर अकाउंट, प्लाटून कमाण्डर और भी अन्य पदों पर भर्ती प्रक्रिया की जा रही है। इस सभी पदों के लिए Rajasthan CET Syllabus को आधिकारिक वेबसाइट से डाउनलोड करके सभी अभ्यर्थी देख सकते है। इस लेख के अंतर्गत आपको राजस्थान सीईटी परीक्षा के सिलेबस के विषय में पूरी जानकारी दी जाएगी।

परीक्षा का नामराजस्थान सीईटी
सम्बंधित विभागराजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड, जयपुर
पद के नामपटवारी, सुपरवायजर, जूनियर अकाउंट, प्लाटून कमाण्डर एवं अन्य पद
आवेदन माध्यमऑनलाइन
पदों की संख्या2996
परीक्षा की भाषाअंग्रेजी एवं हिन्दी
आधिकारिक वेबसाइटhttp://rsmssb.rajasthan.gov.In/

Rajasthan CET Syllabus 2023 : जरुरी दिशा-निर्देश

  • कॉमन एलिजिबिलिटी टेस्ट एक प्रकार की पात्रता परीक्षा होती है। इस टेस्ट में शामिल होने वाले पदों पर छात्रावास अधीक्षक ग्रेड-2 के लिए टेस्ट का आयोजन सभी सही नियमों के अंतर्गत रहेगा। किसी भी उम्मीदवार के लिए सीईटी टेस्ट में शामिल होने और परीक्षा का स्कोर प्राप्त कर लेनेभर से ही जॉब मिल जाने की संतुष्टि नहीं मिल जाती है। सभी उम्मीदवारों को अपनी सफलता को सुनिश्चित करने के लिए भर्ती एजेंसी से ली जाने वाली लिखित परीक्षा अथवा इंटरव्यू और दोनों में अनिवार्य रूप से शामिल होना है। इसमें तय की गयी न्यूनतम अहार्यता प्राप्त करनी है। इस परीक्षा के लिए तय किये गए अनुरूप सेवा नियमों के अनुसार दूसरे मापदंडों को भी पूरा करना है।
  • सामान पात्रता परीक्षा में शामिल सेवाओं की पोस्टों को प्राप्त करने के लिए भिन्न परीक्षा को लिया जायेगा। मुख्य भर्ती परीक्षा का आयोजन एवं भर्ती की प्रक्रिया इससे सम्बंधित सेवा-नियमों के अंतर्गत होने वाली है।
  • सीईटी टेस्ट को बोर्ड साल भर में कम से कम एक बार आयोजित करेगा और इसमें दिए जाना वाल स्कोर पुरे 1 वर्ष तक वैध रहेगा।
  • बोर्ड इस परीक्षा में शामिल होने वाले सभी उम्मीदवारों के अंकों को प्रकाशित करने वाला है।
  • बोर्ड ने सीईटी परीक्षा में सम्मिलित होने वाले अभ्यर्थियों पर प्रयासों की संख्या पर किसी भी प्रकार की रोक नहीं लगा रखी है। इस परीक्षा में अपने स्कोर में सुधार करने के लिए अभ्यर्थी को अवसर भी दिया जायेगा।
  • परीक्षा में सम्मिलित होने वाले किसी भी उम्मीदवार के लिए परीक्षा से पहले मिले सर्वोत्तम उपलब्ध स्कोर को ही मान्यता मिलेगी।
  • सीईटी टेस्ट में बताये गए अधीनस्थ एवं लिपिकीय सेवाओं की पोस्टों की सीधी भर्ती के सन्दर्भ में तय नियमों के अंतर्गत किसी बात के होते हुए भी उम्मीदवार सीईटी टेस्ट में वर्णित पोस्टो पर चुने जाने के लिए ली जाने वाली लिखित परीक्षा अथवा इंटरव्यू या फिर दोनों में उपस्थिति देने से पात्र नहीं होगा। अगर वह उम्मीदवार परीक्षा में भर्ती एजेंसी द्वारा तय किये न्यूनतम अंक को प्राप्त नहीं कर लें।
  • परीक्षार्थी द्वारा भर्ती एजेंसी द्वारा न्यूनतम अंक को तय करते समय यह विचार किया जायेगा कि विज्ञापन रिक्तियों की कुल संख्या से 15 गुना उम्मीदवार इस भर्ती परीक्षा में आवेदन करने के लिए पात्र हो।
  • लेकिन इस भर्ती परीक्षा में शामिल होने वाले सभी उम्मीदवारों को वही अंक प्राप्त करने होंगे जो भर्ती एजेंसी ने मिनिमम सीरीज के लिए तय किये होंगे।
  • सीईटी परीक्षा में वर्णित पोस्टो पर चुने जाने के लिए होने वाली लिखित परीक्षा अथवा साक्षात्कार या फिर दोनों में प्रवेश देंगे।
  • अगर भर्ती एजेंसी को यह लगता है कि भर्ती के लिए ली जाने वाली लिखित परीक्षा एवं इंटरव्यू के लिए तय किये सामान्य मानकों के अंतर्गत सम्मिलित होने वाले आरक्षित वर्ग के उम्मीदवारों की सही-सही संख्या नहीं मिल पा रही है तो प्रवेश देने के लिए शिथिल मानक तय किये जायेंगे।
  • परीक्षा के माध्यम से जरुरी संख्या में उम्मीदवारों को लिखित परीक्षा और इंटरव्यू अथवा दोनों में शामिल होने के लिए रिक्तियों की कुल संख्या (अनुमान के आधार पर) के 15 गुना की मात्रा सीमा को शिथिल माना जायेगा।
  • इस तरह से इस लिखित परीक्षा एवं इंटरव्यू के लिए या फिर दोनों में सम्मिलित होने के लिए दूसरे अहार्यता रखने उम्मीदवारों को सिर्फ उनके आरक्षण के आधार पर चयनित होने की पात्रता मिलेगी।
  • इस परीक्षा में उल्लेखनीय किसी भी पोस्ट के लिए शैक्षिक योग्यता, उम्र, अनुभव इत्यादि ऐसे तय किये जायेगें जोकि इस पोस्ट में भर्ती होने के लिए शासित करने लायक सुसंगत सेवा नियमों के अनुसार हो।
  • सीईटी की परीक्षा में शामिल होने से पहले सभी उम्मीदवारों को यह देख लेना चाहिए कि वे इस परीक्षा में शामिल किसी पद के लिए तय शैक्षिक योग्यता, और जरुरी हो तो इस बारे में शर्ते पूरी करता होगा।
  • किसी भी उम्मीदवार को सीईटी परीक्षा में सम्मिलित होने की अनुमति मिलना उस उम्मीदवार की पात्रता परिक्षण की मान्यता नहीं प्रदान करता है।

Rajasthan CET Syllabus 2023

  • परीक्षा के प्रश्न पत्र में बहुविकल्पीय प्रश्न आएंगे।
  • प्रश्न-पत्र में कुल 150 प्रश्न होंगे।
  • हर प्रश्न के लिए 2 अंक मिलेंगे।
  • प्रश्न-पत्र को हल करने कल लिए कुल 3 घण्टें मिलेंगे।
  • परीक्षा में नकारात्मक अंक का प्रावधान नहीं है।

यह भी पढ़ें :- राजस्थान भामाशाह कार्ड डाउनलोड ,Rajasthan Bhamashah Card Online Download

Rajasthan CET Syllabus 2023

अब अभ्यर्थियों को सीईटी पाठ्यक्रम को विस्तृतरूप से जान लेना चाहिए –

भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन के साथ भारत का इतिहास

  • भारतीय इतिहास में महत्वपूर्ण घटनाएँ और 19वीं एवं 20वीं सदी के धार्मिक एवं सामाजिक सुधार आंदोलन की जानकारी
  • भारत के स्वतंत्रता आंदोलन – अलग-अलग अवस्थाएँ, आंदोलन में भारत के विभिन्न क्षेत्रों में योगदान देने वाले अरु उनका योगदान।
  • राजस्थान का साल 1857 की क्रांति में भागीदारी, जनजाति किसानों का राजस्थान आंदोलन, राजनैतिक जनजागरण और प्रजामंडल आंदोलन।
  • स्वतंत्रता के बाद देश निर्माण, राष्ट्रीय एकीकरण और प्रदेशों के पुनर्गठन, नेहरू के समय में सांस्थानिक निर्माण, विज्ञान और तकनीक का विकास।

राजस्थान का इतिहास, कला, साहित्य, परम्परा, सांस्कृतिक पृष्टभूमि एवं विरासत

  • प्राचीन सभ्यताएँ, कालीबंगा, आहड़, गणेश्वर, बालाथल एवं बैराठ।
  • राजस्थान के इतिहास में विशेष ऐतिहासिक घटनाएँ प्रमुख राजवंश, इनकी प्रशासनिक एवं राजस्व व्यवस्था, सामाजिक-सांस्कृतिक आयाम।
  • स्थापत्य कला की प्रमुख विशेषताएँ, किले एवं स्मारक, कलाएँ, चित्रकलाएँ और हस्तशिल्प।
  • राजस्थानी साहित्य की महत्वपूर्ण कृतियाँ, क्षेत्रीय बोलियाँ, मेले, त्योहार, लोक संगीत एवं लोक नृत्य राजस्थानी संस्कृति, परम्परा एवं विरासत राजस्थान के धार्मिक आंदोलन।
  • संत एवं लोक देवता, महत्वपूर्ण ऐतिहासिक स्थल।
  • राजस्थान के प्रमुख व्यक्तित्व राजस्थान का एकीकरण ।

देश का भूगोल

  • भौतिक स्वरूप, पहाड़, पठार, मरुस्थल और मैदान
  • जलवायु और मानसून तंत्र, प्रसिद्ध नदियाँ, बाँध, झीले और समुद्र।
  • वन के जीव-जन्तु और अभ्यारण्य प्रमुख फसले – गेंहू, चावल, कपास, गन्ना, चाय और कॉफी।
  • प्रमुख खनिज – लौह अयस्क, मैगनीज, बॉक्साइड और अभ्रक।
  • परम्परागत एवं गैर-परम्परागत ऊर्जा संसाधन, प्रमुख उद्योग एवं औद्योगिक प्रदेश।
  • राष्ट्रीय राजमार्ग, परिवहन के साधन और व्यापार।

राजस्थान का भूगोल

  • भूगर्भ संरचनाएँ और भू-आकृतिक प्रदेश
  • जलवायु की दशाएँ, मानसून तंत्र और जलवायु प्रदेश
  • अपवाह तंत्र, झीले, सागर बाँध और जल संरक्षण तकनीक।
  • प्राकृतिक वनस्पति।
  • वन्य जीव-जन्तु एवं अभयारण्य
  • मृदाएँ
  • रची और खरीफ की प्रमुख फसलें, जनसंख्या वृद्धि, घनत्व, साक्षरता और लिंगानुपात
  • प्रमुख प्रादेशिक जनजातियाँ
  • धात्विक और अधात्विक खनिज पदार्थ।
  • परम्परागत और गैर-परम्परागत ऊर्जा संसाधन
  • पर्यटन स्थल
  • यातायात साधन, राष्ट्रीय राजमार्ग, रेल एवं वायुयान।

देश की राजनैतिक व्यवस्था (राजस्थान पर बल देकर)

  • भारतीय संविधान की प्रकृति, प्रस्तावना (उद्देशिका), नागरिक मौलिक अधिकार, प्रदेश एक निति निर्देशिक सिद्धांत, नागरिक के मौलिक कर्तव्य, संघीय ढाँचा, संवैधानिक संशोधन, आपातकालीन प्रावधान, जनहित याचिका, संविधान सभा, देश के संविधान की विशेषताएँ।
  • राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और प्रशासनिक राज्य कार्यपालिका, निर्वाचन आयोग, नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक, मुख्य सूचना आयुक्त, लोकपाल, मानवधिकार आयोग, स्थानीय स्वायत शासन एवं पंचायती राज।
  • प्रदेश की राजनैतिक और प्रशासनिक व्यवस्था, राज्यपाल, मुख्यमंत्री, राज्य विधानसभा, उच्च न्यायालय, राजस्थान लोक सेवा आयोग, जिला प्रशासन, राज्य मानवधिकार आयोग, लोकायुक्त, राज्य निर्वाचन आयोग, राज्य सूचना आयोग।

भारतीय अर्थव्यवस्था

  • बजट निर्माण, बैंकिंग, लोक वित्त, वस्तु और सेवा कर, राष्ट्रीय आय संवृद्धि और विकास के आधारभूत ज्ञान।
  • राजकोष और मुद्रा की नीतियाँ
  • सब्सिडी, लोक वितरण प्रणाली
  • ई-कॉमर्स
  • अर्थव्यवस्था के प्रमुख क्षेत्र कृषि, उद्योग, सेवा और व्यापार क्षेत्रों की वर्तमान स्थिति, मुद्दे और पहल।
  • हरित क्रान्ति, श्वेत क्रान्ति और नीली क्रान्ति।
  • पंचवर्षीय योजनाएँ और नियोजन प्रणाली।
  • प्रमुख आर्थिक समस्याएँ और सरकारी पहल, आर्थिक सुधार और उदारीकरण।

राजस्थान की अर्थव्यवस्था

  • राजस्थान की खाद्य व व्यावसायिक फसले, कृषि आधारित उद्योग, वृहद सिंचाई और नदी घाटी परियोजनाएँ, चंजन भूमि एवं सूखे क्षेत्र, विकास परियोजनाएँ, इन्दिरा गांधी नहर परियोजना।
  • उद्योगों के विकास एवं उनका स्थान, खेती आधारित उद्योग, खनिज आधारित उद्योग, लघु कुटीर एवं ग्रामोद्योग, निर्यातक सामग्री, राजस्थान की हस्तकला।
  • गरीबी एवं बेरोजगारी की अवधारणाएँ, कारण एवं निदान, वर्तमान फ्लैगशिप योजनाएँ, सामाजिक न्याय और अधिकारिक कमजोर वर्गों के लिए प्रावधान।
  • विभिन्न कल्याणकारी योजनाएँ, महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम (MNREGA), विकास संस्थाएँ, सहकारी आन्दोलन, लघु उद्यम एवं वित्तीय संस्थायें, संविधान के 73वें संशोधन के अनुरूप पंचायती राज संस्थाओं की ग्रामीण विकास में भूमिका।

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी

  • सूचना एवं संचार प्रौद्योगिकी रक्षा प्रौद्योगिकी अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी एवं उपग्रह
  • विद्युत धारा, उष्मा, कार्य और ऋण
  • आहार एवं पोषण रक्त समूह एवं RH कारक
  • पर्यावरणीय और पारिस्थितिकीय परिवर्तन एवं इनके प्रमाण, जैव-विविधता प्राकृतिक संसाधनों का संरक्षण एवं संधारणीय विकास
  • जन्तुओं और पादपों का आर्थिक महत्व
  • कृषि विज्ञान, उद्यान-विज्ञान, यांत्रिकी और पशुपालन राजस्थान के विशेष संदर्भ में विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विकास राजस्थान के विशेष संदर्भ में
  • भौतिक एवं रासायनिक परिवर्तन अम्ल, क्षार एवं लवण, ब्लीचिंग पाउडर, खाने का सोडा, प्लास्टर ऑफ पेरिस, साबुन एवं अपमार्जक।

सामान्य हिंदी

  • संधि एवं संधि-विच्छेद
  • संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण, क्रिया, क्रिया विशेषण, कारक, अव्यय समास, भेद, सामासिक पदों की रचना, विग्रह।
  • उपसर्ग एवं प्रत्यय विलोम शब्द पर्यायवाची एवं अनेकार्थक शब्द।
  • विराम चिन्ह
  • ध्वनि एवं उसका वर्गीकरण, पारिभाषिक शब्दावली (अंग्रेजी के पारिभाषिक शब्दों के पर्यायवाची शब्द), शब्द शुद्धि (अशुद्ध शब्दों को शुद्धि करना ) या शुद्धि (अशुद्ध वाक्यांश को शुद्धि करना )
  • मुहावरे और लोकोक्तियाँ
  • राजभाषा हिन्दी की संवैधानिक स्थिति, पत्र और इसके प्रकार (कार्यालयी पत्र के प्रारूप के विशेष सन्दर्भ में)।

राजस्थान सीईटी सिलेबस सम्बंधित प्रश्न

सीईटी परीक्षा कितने अंको की होगी?

ये परीक्षा कुल 300 अंकों की होने जा रही है।

क्या प्रश्न-पत्र में नकारात्मक अंक प्रणाली है?

नहीं, प्रश्न-पत्र में किसी भी प्रकार की नकारात्मक प्रणाली नहीं होगी।

परीक्षा के लिए कितना समय मिलने वाला है?

ये परीक्षा कुल 3 घंटों में पूर्ण करनी होगी।

सीईटी परीक्षा के प्रश्न-पत्र में कितने प्रश्न होंगे?

परीक्षा के प्रश्न-पत्र में कुल 150 प्रश्न होंगे और सभी प्रश्न 2 अंक के होंगे।

Leave a Comment

Join Telegram