e nam रजिस्ट्रेशन : ई-नाम ऑनलाइन किसान पंजीकरण enam.gov.in Portal

e nam रजिस्ट्रेशन :- eNAM या राष्ट्रीय कृषि बाजार भारत में कृषि वस्तुओं के लिए एक ऑनलाइन ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म है। जो बाजार किसानों, व्यापारियों और खरीदारों को वस्तुओं में ऑनलाइन ट्रेडिंग की सुविधा प्रदान करता है। भारत के कृषि मंत्रालय के द्वारा यह पोर्टल लॉन्च किया गया है। अब व्यक्तिगत किसान ई-नाम पोर्टल enam.gov.in पर किसान पंजीकरण के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। 

किसान अपने कृषि उत्पादों को बेचने के लिए enam ऑनलाइन आवेदन पत्र भरकर खुद को विक्रेता के रूप में पंजीकृत कर सकते हैं। आज हम आपको अपने इस आर्टिकल के माध्यम से @enam.gov.in Portal ऑनलाइन किसान पंजीकरण से संबंधी जानकारी को साझा करेंगे। अतः ई-नाम ऑनलाइन किसान से जुड़ी सभी जानकारी प्राप्त करने के लिए यह आर्टिकल अंत तक पढ़ें।

ई-नाम-ऑनलाइन-किसान-पंजीकरण

ई-नाम ऑनलाइन किसान पंजीकरण 2021

e nam-लघु किसान कृषि व्यवसाय कंसोर्टियम (एसएफएसी) भारत सरकार के कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय के तत्वावधान में E-NAM को लागू करने की प्रमुख एजेंसी है। एकीकृत बाजारों में प्रक्रियाओं को सुव्यवस्थित करके, खरीदारों और विक्रेताओं के बीच सूचना की विषमता को दूर करके और वास्तविक मांग और आपूर्ति के आधार पर वास्तविक समय मूल्य की खोज को बढ़ावा देकर कृषि विपणन में एकरूपता को बढ़ावा देना है।

कृषि वस्तुओं में अखिल भारतीय व्यापार की सुविधा के लिए एक आम ऑनलाइन मार्केट प्लेटफॉर्म के माध्यम से देश भर में APMC का एकीकरण, और समय पर ऑनलाइन भुगतान के साथ-साथ उपज की गुणवत्ता के आधार पर पारदर्शी नीलामी प्रक्रिया के माध्यम से बेहतर कीमत की खोज प्रदान करता है।

enam.gov.in Portal 2021 Highlights

आर्टिकल का नाम ई-नाम ऑनलाइन किसान पंजीकरण
योजना शुरू की गयी केंद्र सरकार
संबंधित विभाग कृषि मंत्रालय भारत सरकार
लाभार्थी देश के सभी किसान
उद्देश्य किसान नागरिक अपनी फसल को बिना किसी समस्या के बेच सके
वर्ष 2021
लाभ किसानों के द्वारा बेचीं गयी फसल का सीधा मूल्य प्राप्त
पंजीकरण ऑनलाइन
आधिकारिक वेबसाइट www.enam.gov.in
e-nam-रजिस्ट्रेशन

e nam रजिस्ट्रेशन का उद्देश्य क्या है ?

राष्ट्रीय कृषि बाजार का मुख्य उद्देश्य है शुरू में विनियमित बाजारों में पारदर्शी बिक्री लेनदेन और मूल्य खोज के लिए एक राष्ट्रीय ई-बाजार मंच प्रस्तुत करना।इसके साथ ही राज्यों को उनके राज्य कृषि विपणन बोर्ड एपीएमसी द्वारा ई-ट्रेडिंग को बढ़ावा देने के लिए उनके एपीएमसी अधिनियम में उपयुक्त प्रावधान लागू करना है। e nam रजिस्ट्रेशन के माध्यम से राज्य के सभी बाजारों में वैध व्यापारी के लिए एक लाइसेंस उपलब्ध किया जायेगा। जो कृषि उपज के गुणवत्ता मानकों का सामंजस्य और खरीदारों द्वारा सूचित बोली को सक्षम करने के लिए हर बाजार में परख (गुणवत्ता परीक्षण) बुनियादी ढांचे का प्रावधान करेगा। साथ ही मंडी में ही इस सुविधा का उपयोग करने के लिए किसानों को जाने के लिए चयनित मण्डी में या उसके पास मृदा परीक्षण प्रयोगशालाओं का प्रोविशन किया जायेगा।

E NAM के माध्यम से कृषि क्षेत्र के विपणन पहलू में सुधार करना है। पूरे राज्य और एकल बिंदु उदग्रहण के लिए एक लाइसेंस के साथ, एक पूरा राज्य एक बाजार बन जाता है और एक ही राज्य के भीतर बाजार का विखंडन समाप्त हो जाता है। यह वस्तुओं की आपूर्ति श्रृंखला में सुधार करेगा और फिजूल खर्च को कम करने में सहायक होगा।

e-nam-रजिस्ट्रेशन

enam.gov.in Portal पंजीकरण विवरण

देश के लगभग 1.70 करोड़ से अधिक किसान नागरिक ई नाम पोर्टल में पंजीकृत हो चुके है। इसके साथ ही 1.63 लाख व्‍यापारी भी पोर्टल में पंजीकृत है। भारत सरकार के द्वारा पोर्टल में किसानों को लाभान्वित करने के लिए एक हजार से अधिक मंडियों को ऑनलाइन सेवा से जोड़ा गया है। यह पोर्टल देश के किसानों की फसल को ऑनलाइन माध्यम से बेचने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। इसके साथ ही किसान अपनी फसलों का उचित दाम प्राप्त करके अपनी आर्थिक स्थिति में सुधार करने में सहायक होंगे। अच्छी आमदनी प्राप्त करने के बाद किसान आत्मनिर्भर और मजबूत बनेंगे।

ई-नाम ऑनलाइन किसान पंजीकरण के लाभ
  • देश के किसान किसी भी दलालों या बिचौलियों के हस्तक्षेप के बिना उत्पादों को बेच सकते हैं जिससे उनके निवेश से प्रतिस्पर्धात्मक लाभ होता है।
  • किसानो को ऑनलाइन सेवाओं का लाभ आसानी से उपलब्ध करवाने हेतु भारत सरकार के द्वारा इसके लिए मोबाइल ऍप भी लॉन्च किया गया है।
  • e nam पोर्टल के माध्यम से व्यापारी भारत में कहीं भी एक एपीएमसी से दूसरे में द्वितीयक व्यापार कर सकेंगे। स्थानीय व्यापारियों को द्वितीयक व्यापार के लिए बड़े राष्ट्रीय बाजार तक पहुंच मिलेगी।
  • बड़े खुदरा विक्रेताओं, प्रोसेसर या निर्यातकों जैसे खरीदार भारत में किसी भी मंडी से वस्तुओं को स्रोत करने में सक्षम होंगे, जिससे अंतर-मध्यस्थता लागत कम हो जाएगी।
  • ई- नाम पोर्टल के अंतर्गत व्यापारियों की संख्या बढ़ेगी जिससे व्यापारियों के बीच में प्रतिस्पर्धा बढ़ेगी।
  • देश के किसानों को अब अपनी फसल को बेचने हेतु आढ़तियों और बिचौलियों का सामना नहीं करना पड़ेगा।
  • ई-नाम ऑनलाइन किसान पंजीकरण के तहत बाजार में होने वाले सभी लेनदेन के लेखांकन के कारण बाजार आवंटन शुल्क में वृद्धि होगी।
  • enam.gov.in Portal के माध्यम से किसानों के द्वारा बेची गयी फसल का सीधा पैसा ऑनलाइन रूप में उनके बैंक अकाउंट में प्राप्त होगा।
  • यह किसानों तक कृषि उत्पादों की सभी विवरणों को पारदर्शी रूप में उपलब्ध करवाने में सहायक होगा।
  • वस्तुओ की गुणवक्ता की जानकारी भी नागरिकों तक पोर्टल के माध्यम से आसानी से पहुचायी जाएगी।

राष्ट्रीय कृषि बाजार की विशेषताएं

  • वित्तीय वर्ष 2021 के लिए केंद्र सरकार के द्वारा ई-नाम पोर्टल के माध्यम से 200 मंडियों को जोड़ने का कार्य किया जायेगा। जिसमें अगले वर्ष तक मंडियों की संख्या में वृद्धि कर 215 मंडियों को जोड़ने का लक्ष्य रखा गया है।
  • किसानों और व्यापारियों के लिए 8 भाषाओं में उपलब्ध ऐप पर लेनदेन करने और उसे पूरा करने के लिए एंड्रॉइड पर e-NAM मोबाइल एप्लिकेशन उपलब्ध की गयी है।
  • 20 अप्रैल 2021 को पोर्टल की पांचवीं वर्षगांठ पूर्ण हो गयी है।
  • भुगतान नेटवर्क RTGS / NEFT, डेबिट कार्ड और इंटरनेट बैंकिंग को भी ऐप में एकीकृत किया गया है।  2017 में मोबाइल भुगतान, BHIM समर्थन के माध्यम से यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस (UPI) सुविधा को ऐप में जोड़ा गया है जिससे किसानों को फसलों के दाम ऑनलाइन रूप में प्राप्त हो सके।
  • किसानों को अपनी फसल बेचने के लिए बिचौलियों का सामना नहीं करना होगा।
  • 14 अप्रैल 2016 को केंद्र सरकार के द्वारा यह पोर्टल लॉन्च किया गया।
  • राष्ट्रीय कृषि बाजार पोर्टल की सहायता से अब देश के किसान किसी भी मंडी में अपनी फसल को बेच सकते है।
  • e nam पोर्टल के तहत देश के किसान राज्यों के बीच में कार्य को सरलता से कर पाएंगे।
  • ईएनएएम प्लेटफॉर्म पर, किसान मोबाइल ऐप के माध्यम से या पंजीकृत कमीशन एजेंटों के माध्यम से सीधे व्यापार करने का विकल्प चुन सकते हैं।
  • ईएनएएम 18 राज्यों और 2 केंद्र शासित प्रदेशों में 1000 बाजारों ( एपीएमसी ) के साथ जुड़ा हुआ है , इन 18 राज्यों में 50 लाख से अधिक किसान सदस्य हैं।
  •  बाजार एक जगह पर थोक में गुणवत्ता वाले उत्पादों की खरीद में व्यापारियों और निर्यातकों की मदद कर रहा है और पारदर्शी वित्तीय लेनदेन सुनिश्चित करने में यह किसानों की मदद कर रहा है।
  • सरकार की यह योजना है कि 22,000 ग्राम , स्थानीय किसान बाजारों को प्लेटफॉर्म से जोड़ा जाए।
पंजीकरण हेतु दस्तावेज एवं पात्रता

आवेदकों को e nam रजिस्ट्रेशन करने के लिए कुछ पात्रता को पूरा करना होगा जिसके साथ-साथ आपको कुछ जरूरी दस्तावेजों की भी आवश्यकता होगी। नीचे दिए गए पॉइंट्स के माध्यम से आप इन जानकारियों को प्राप्त कर सकते है –

  • आवेदक किसान का आधार कार्ड
  • बैंक पास बुक विवरण
  • मतदाता पहचान पत्र
  • मोबाइल नंबर
  • आवेदक किसान की पासपोर्ट साइज फोटो
  • ई-नाम पोर्टल में पंजीकरण करने के लिए देश के किसान नागरिक ही आवेदन हेतु पात्र होंगे।

ई-नाम ऑनलाइन किसान पंजीकरण कैसे करें ?

देश के जो इच्छुक लाभार्थी किसान ई-नाम पोर्टल में रजिस्ट्रेशन करना चाहते है वह नीचे दिए गए तरीकों को फॉलो कर आसानी से आवेदन प्रक्रिया को पूरा कर सकते है।

  • e nam Portal Registration करने के लिए आधिकारिक वेबसाइट enam.gov.in पर जाएँ।
  • उसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल जायेगा।
  • वेबसाइट के होम पेज में  Registration के विकल्प में क्लिक करें। ई-नाम-ऑनलाइन-किसान-पंजीकरण
  • अगले पेज में आवेदक को eNAM Registration form प्राप्त होगा।
  • आवेदक किसान को पंजीकरण करने हेतु Registration form में दी गयी सभी प्रकार की जानकारी को दर्ज करना है।
    ई-नाम-ऑनलाइन-किसान-पंजीकरण
  • जैसे-आवेदक किसान का नाम ,एड्रेस ,डेट ऑफ़ बर्थ ,डिस्ट्रिक्ट ,पिनकोड ,मोबाइल नंबर ,ईमेल आईडी ,राज्य ,फोटोआईडी नंबर बैंक डिटेल्स आदि।
  • सभी जानकारी भरने के बाद फॉर्म के साथ मांगे गए दस्तावेज की स्कैन फाइल को फॉर्म के साथ अटैच करें।
  • सभी प्रक्रिया पूरी होने के पश्चात फॉर्म को सबमिट करें।
  • जमा किये गए रजिस्ट्रेशन फॉर्म प्रिंट आउट ले और फसल बेचने हेतु आगे के लिए इसे सुरक्षित रखें।

महत्वपूर्ण लिंक

ई-नाम रजिस्ट्रेशन फॉर्म लिंक यहाँ क्लिक करें
मोबाइल एप्प डाउनलोड लिंक यहाँ क्लिक करें

पोर्टल में पंजीकरण हेतु दिशा निर्देश कैसे देखे ?

  • ई नाम पोर्टल में पंजीकरण हेतु नागरिक को ऑफिसियल वेबसाइट में प्रवेश करना होगा।
  • वेबसाइट के होम पेज में Resource वाले सेक्शन में Registration Guidelines के ऑप्शन में क्लिक करें।
  • इसके पश्चात आवेदक की स्क्रीन में Registration Guidelines से संबंधित सभी महत्वपूर्ण सूचना स्क्रीन में प्रदर्शित हो जाएगी।
    ई-नाम-पोर्टल-गाइडलाइन
  • इस तरह से आवेदक किसान पंजीकरण हेतु दिशा-निर्देशों को देख सकते है।

e nam मोबाइल एप्प कैसे डाउनलोड करें ?

  • ई नाम एप्प डाउनलोड करने एक लिए अपने मोबाइल फ़ोन में उपलब्ध प्ले स्टोर ऍप को ओपन करें।
  • प्ले स्टोर ओपन करने के पश्चात सर्च वाले विकल्प में e-nam लिखकर सर्च करें।
  • अब आवेदक की स्क्रीन में e-nam एप्प खुलकर आएगा।
  • इसके पश्चात Install के ऑप्शन में क्लिक करें।
  • इस तरह से मोबाइल एप्प डाउनलोड करने की प्रक्रिया आपकी पूर्ण हो जाएगी।
  • और आवेदक किसान एप्प की सहायता से सभी कृषि उत्पादों को मंडी तक आसानी से पहुंचाने में सहायक हो सकते है।

ई-नाम पोर्टल 2021 से संबंधित कुछ प्रश्न और उनके उत्तर

e nam पोर्टल क्या है ?

ई नाम पोर्टल एक इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग पोर्टल है जो कृषि से संबंधित उत्पादों को इकट्ठा करने में मदद करता है। यह APMC मंडियों को ऑनलाइन नेटवर्क से जोड़ने का एक मंच है जिसके माध्यम से किसान अपनी फसल को ऑनलाइन रूप में बेच सकते है।

ई-नाम पोर्टल की शुरुआत केंद्र सरकार के द्वारा कब की गयी ?

14 अप्रैल 2016 को केंद्र सरकार के द्वारा e nam पोर्टल को लॉन्च किया गया।

e nam पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट क्या है ?

इस पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट www.enam.gov.in है। इस वेबसाइट का लिंक हमने आपको अपने इस लेख में उपलब्ध करा दिया है।

ई नाम पोर्टल के अंतर्गत किसानों को क्या सुविधाएँ प्राप्त होगी ?

किसान अपनी फसल अब पोर्टल के अंतर्गत ऑनलाइन माध्यम से बेच सकते है ,इसके साथ ही वह बिचैलियों से छुटकारा प्राप्त कर अपनी फसल का समर्थन मूल्य बिना किसी समस्या के प्राप्त करने में सहायक होंगे।

क्या किसान पोर्टल की सहायता से फसल के उचित दाम प्राप्त करने में सहायक होंगे ?

हाँ किसानों को ऑनलाइन रूप में पोर्टल की मदद से फसल के उचित दाम प्राप्त होंगे। ऑनलाइन रूप में पंजीकृत हो के देश के किसान फसल उत्पादों से संबंधी सभी सुविधाओं का लाभ प्राप्त कर सकते है।

पोर्टल में आवेदन से संबंधी समस्या हेतु किसान नागरिक कहाँ सम्पर्क कर सकते है ?

केंद्र सरकार के द्वारा किसानों की सहायता हेतु टोल फ्री नंबर जारी किया गया है ,किसान नागरिक Call us 1800 270 0224 नंबर सम्पर्क कर अपनी समस्या के समाधान को प्राप्त कर सकते है।

ई नाम मोबाइल ऍप कितनी भाषाओँ में उपलब्ध है ?

देश के सभी किसानों कृषि क्षेत्र में मदद करने के लिए भारत सरकार के द्वारा ई नाम मोबाइल एप्प को 8 भाषाओं में उपलब्ध किया गया है। किसान अब अपनी राज्य भाषा के माध्यम से ऍप से सभी सुविधाओं का लाभ प्राप्त कर सकते है।

e nam पोर्टल से संबंधित हेल्पलाइन नंबर क्या है ?

इस पोर्टल से सम्बंधित हेल्पलाइन नंबर 1800 270 0224 है।

हेल्पलाइन नंबर

पोर्टल से संबंधी किसी भी प्रकार के समस्या हेतु आवेदक किसान नीचे दिए गए हेल्पलाइन नंबर पर सम्पर्क कर अपनी समस्या के हल को प्राप्त कर सकते है।

NCUI Auditorium Building, 5th Floor, 3, Siri Institutional Area,
August Kranti Marg, Hauz Khas,
New Delhi – 110016
हेल्पलाइन (टोल फ्री) नंबर: 1800 270 0224
ईमेल आईडी: nam@sfac.in, enam.helpdesk@gmail.com
आधिकारिक वेबसाइट: enam.gov.in

Leave a Comment